गौरैया की अठखेलियाँ 

​   


Spread Positivity

                          (चित्र दैनिक जागरण के साभार से)

घिरती हुई काली घटायें मनुष्यों के अलावा पशु पक्षियों के मन को भी उत्साहित कर देती हैं।गौरैयों का झुण्ड भी बारिश की बूँदों के साथ अपने आप को  मस्ती करने से नही रोक पाया ।फुदकती हुई गौरैयों की तस्वीर को देखकर मेरी कलम भी चल पड़ी गौरैयों के भावों को उन्ही के शब्दों मे कागज पर उतारने की गुस्ताखी मैने भी कर डाली…..

            बरसात की बूँदों से भरे हुए गड्ढों को 

                        हमने तालाब समझ लिया है…

          तालाबों की तरफ का क्या रुख करना
                        जब सड़कों पर ही तालाब बना है…

         ज्यादा सोच समझकर बारिश की बूँदों का
                         मजा लेना हमारी “फितरत” मे नहीं….

          वैसे तो हम गौरैयों को झुण्ड का साथ हमेशा
                          भाता है….

           लेकिन खिलखिलाती हुई बारिश की बूँदों को
                         देखकर हमने झुण्ड को भुला दिया…

           अपने आप को बारिश की बूँदों से नहला दिया…

             सुबह से ही आकाश मे बादलों की “रेलमपेल”
                           नजर आ रही थी…

             बीच बीच मे सूरज की रोशनी से हमारी आँखें
                            चौंधिया रही थी….

                  आँखों मे बारिश की बूँदों की आस थी
                   पर पता नही कहाँ छिपी ये बरसात थी….

                     अब जाकर बादलों ने बूँदें गिरायी है
                 वातावरण की तपन मे ज़रा सी कमी आयी है…

             भीगती हुई धरा को देखकर हमने सोचा चलो हम भी
                                 भीग लेते हैं…

                बारिश की बूँदों के साथ “अठखेलियाँ” कर लेते हैं…

                       जब भीगने लगे तो साथ मिल गया…
                     संगी साथियों का झुण्ड साथ हो लिया…

             अब ये मत सोचना कि हमारे ऊपर मोटापा चढ़ा है….
               क्योंकि गोल मटोल सा हमारा शरीर दिख रहा है…

             असल मे बात यह है कि आज हमने अपने पंखो
                    को कई दिनो के बाद धुला है…

             अपने आप को जल के प्रतिबिम्ब मे निहार लिया…
                अपनी चोंच को भी सजा और सँवार लिया…

                अब अपने पंखों को आराम से फैलाया है….
            क्योंकि अब हमने आकाश की तरफ उड़ान भरने
                           का मन बनाया है ……

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s