नाजुक एहसास 

​     

  

Spread Positivity

  

        जिंदगी की लहरों पर उतराती हुई 

                साँसें होती हैं।
          
          आँखों मे सपनों और आत्मविश्वास
                के साथ आती हैं।

         क्या होता है जीवन सिर्फ मौजमस्ती
               या मटरगश्ती के लिए?

        जीवन की कश्ती हवा के बहाव के साथ
          विश्वास और धैर्य के साथ बहती है।

         जीवन की मुश्किलें आती जाती रहती हैं।
         बीच भँवर मे कभी डूबती कभी उतराती है।

           अबोध बच्चे की आँखों की चमक
                  आत्मा को भेदती है।

         बच्चों की जीवन के प्रति उमंग और खिलखिलाहट
                  कुछ सोचने पर मजबूर करती है।

          जीवन मे होने वाली छोटी छोटी घटनाएं
                       मन को छू जाती हैं।

          जीवन को जीने का एक अलग सा नजरिया
                            दिखा जाती है।

          

Spread Positivity

          

                      बाजार मे घूमते हुए
           घर के लिए कुछ उपयोगी सामान लेते हुए
                  हुआ एक अद्भुत सा एहसास
                        थी मै अपनी ही धुन मे

                 दिमाग सोच रहा था,रह गया है
                    अब और क्या क्या काम ?

                सँभाला हुआ था सामानों का थैला।
                दूसरा हाथ था तुलनात्मक रूप से
                         खाली और अकेला ।

               हाथ को अचानक से हुआ मुलायमियत
                            का एहसास।

                 चलते-चलते रास्ते पर अचानक से
                एक नन्ही सी बच्ची ने पकड़ लिया था
                             जोर से मेरा हाथ।

                    मेरी गर्दन अचानक से उस तरफ
                             मुड़ गई।
 
                   मेरी आँखें उस मासूम से चेहरे पर
                         जाकर ठहर गई।

            

Spread Positivity

       

                उसकी आँखों मे था विश्वास के साथ
                             कुछ सवाल।

                         आप तो नही है हमारी माँ
                फिर कैसे पकड़ लिया मैने आपका हाथ?

                उसके चेहरे पर हैरानी मिश्रित मुस्कान थी।
            आँखें उसकी बाल सुलभ चंचलता की पहचान थी।

                   अचानक से ज़रा सी हलचल मच गई
              बच्ची की माँ दौड़ते भागते बच्ची के पास पहुँच गई
 
                   बच्ची ने बालसुलभ चंचलता दिखाई ।
                  माँ के पास जाना कुछ पल के लिए झुठलाई।

                  माँ ने बच्ची को जोर से अपनी तरफ खींचा।
                   ज़रा सा अपनी लापरवाही पर झेंपते हुए
                              मेरी तरफ देखा।

                           मै ज़रा सा मुस्कुरा दी
                    नन्ही बच्ची जोर से खिलखिला दी।

                        उसकी नाजुक उँगलियाँ
                      धीरे से मेरे हाथों से सरक गई।
                       वो अपने रास्ते और मै अपने
                              रास्ते निकल गई ।

Spread Positivity

( समस्त चित्र internet के सौजन्य से ) 

Advertisements

2 thoughts on “नाजुक एहसास 

  1. बचपन और बचपना बड़ा सुहाना होता है क्योंकि हमेशा छल कपट से अनजाना होता है ।हर व्यक्ति को विश्वास के साथ देखता है क्योंकि शायद सही मे बचपन और बचपने के भीतर ही ईश्वर का ठिकाना होता है😊

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s