औजारों की खूबसूरत दुनिया 

​  

Spread Positivity  

             चलते हुए “रास्तों”को देखते हुए 

                    एक “अनसुलझा” सा विचार
                               दिमाग मे समा गया।

              देखते ही देखते मुझे “आकुल”और
                         “व्याकुल” करते हुए बिना समय
                             “गंवाए” मेरे दिमाग पर छा गया।
              
                रास्तों पर,दुकानों में,बनती हुई इमारतों मे
                         चारो तरफ काम करते हुए लोगों को
                               ज़रा सा “करीब” से देखा।

Spread Positivity

                

                 आँखों ने यह देखकर कई सारे “सवालों” को
                              मेरे दिमाग मे प्यार से “फेंका”।

                हर व्यक्ति के हाथों मे कोई न कोई
                                             “औजार”सज रहे थे।

                 “औजारों” के साथ “तल्लीनता” से काम मे
                                   “तल्लीन” लोंग बड़े “जँच” रहे थे।

                “औजारों”के बिना “निर्माण” के साथ साथ
                             “विध्वंस” भी संभव है क्या ?

                फावड़ा, कुदाली,खुरपी और हल के बिना
                              धरती भी “सृजन” नही करती।
                मिट्टी की “उलट पुलट” इन्हीं औजारों के सहारे
                                     ही तो होती।

                आधुनिकता की चमक के साथ-साथ
                       बदलती हुई जरूरतों से औजार भी “वंचित” कहाँ?

                 “आदिम युग”से लेकर आज तक के औजारों
                         की दुनिया “संचित”कहाँ?

Spread Positivity

                 

           पत्थरों को नुकीले कर के या लकड़ियों को छीलकर
                          पाषाण युग मे औजार बनाये जाते थे।
                 इन्हीं औजारों से ही तो पेट की भूख, सुरक्षा और
                          घर के साजो-सामान भी सजाये जाते थे।

                 “आधुनिक रसोई” भी बिना औजारों के “सजती” कहाँ?
                             दाल रोटी से लेकर खाने पीने की सभी चीजें
                                  चौकी,  बेलन, कलछी, चम्मच के बिना बनती कहाँ?

                  एक “लेखक” का औजार उसकी “वाणी” और
                              “कलम”ही होती है।
                    इन्ही के सहारे तो विचारों को शब्दों मे “पिरोकर”
                           कविता कहानी या गद्य की नई नई दुनिया “सजती” है।

    

Spread Positivity

               

                 सामने रखे हुए स्क्रू ड्राइवर ,हैमर ,टेस्टर जैसे न जाने
                            कितने औजार आँखों के सामने दिख गये।
                     जरूरत पड़ते ही जल्दी से सभी अपने कामों को
                                   करने मे जुट गए।

                  जितना ज्यादा मै औजारों के बारे मे सोचती जा रही थी।
                          उतनी ही “वृहद”दुनिया मुझे औजारों की नजर आ रही थी।

                आखिरकार मेरे सोच विचार का यह परिणाम निकला
                          औजारों की दुनिया से कहीं भी और कुछ भी नही है “अछूता”।

                इसीलिये तो “आदिम युग”से लेकर आज तक “मानव जाति”का
                          और औजारों का साथ नहीं “छूटा”।

Spread Positivity

( समस्त चित्र internet के सौजन्य से ) 

Advertisements

6 thoughts on “औजारों की खूबसूरत दुनिया 

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s