गाड़ियों का रैम्प वाॅक

​             

Spread Positivity

                क्या कभी आपने अपने दिमाग को रास्तों 
                पर भागते हुए वाहनो पर “ठहराया” है।

          कभी इन भागते हुए अलग-अलग तरह के वाहनों की
              “मूक भाषा”को समझने की करी भी है कोशिश।

              या यूँ ही रहे हो हमेशा हरी बत्तियों के “फेर” मे
              या भगा लिया है अपनी अपनी गाड़ियों को
                      लाल बत्तियों की “ठेलमठेल” मे।

                     कुछ दिन पहले की ही तो बात है।
              मेरी कार लाल बत्ती पर आराम फरमा रही थी।

                 लाल बत्ती पर खड़ी सारी गाड़ियों के साथ
                     बारिश की बूँदों से नहा रही थी।

                अचानक से आगे खड़ी SUV कार ने
                      अपने दाँतों को दिखाया।
                  अपनी “ब्रेक लाइट” के साथ-साथ
                    तीन चार सजावटी लाइटों को।
                   मेरी कार कीआँखों मे चमकाया।
              अपने वाइपर के द्वारा ही अपने हाथों को
                            जोर जोर से हिलाया।

        

Spread Positivity

  मेरी कार ने अपने मुँह को बड़ी जोर से “बिचकाया”।

   अपनी “हेडलाइट्स” को जला बुझा कर अपनी आँखों को दिखाया।
        अपने एक वाइपर को उठा कर ही हाथों को हिलाया।

           अपनी हैजर्ड लाइट्स से अपने को जगमगाया।

          रात के समय रास्तों पर इन गाड़ियों की चमक
                     बड़ी” प्यारी “लगती है।
          अलग-अलग आकार और प्रकार की गाड़ियों
              की दुनिया बड़ी “न्यारी” लगती है।

           एक दिन देखा एक ई रिक्शा और SUV मे हो
                       रही थी “प्रतिद्वन्दिता”
            दौड़ते भागते हुए ई रिक्शे ने SUVके बगल मे
                  जल्दी से जगह पा ली।
            अपनी “विजयी मुद्रा” को दिखाते हुए
            सारी रोशनी “मुस्कान” के साथ जला ली।

      रोशनी से”जगमगाता” हुआ रिक्शा बड़ा प्यारा लग रहा था।
       “तुलनात्मक रूप” से अपने पतले पहियों की सहायता से ही
            चार लोगों का बोझ खुशी से ढो रहा था।

          तभी लहराता हुआ “मदमस्त” दुपहिया वाहन आया।
          लड़ता ,भिड़ता, अड़ता, सँभलता हुआ SUVऔर रिक्शे
                    के बीच मे अपनी जगह को बनाया।
                        ज़रा सा “बेशर्मी” से मुस्कुराया।

         सबसे ज्यादा अधीरता इन “दुपहिया वाहनो” मे ही होती है।
             इंतजार करने की सीमा इन्हें कभी न भाती है।
          खोज लेते हैं किसी न किसी कोने से धीरे से “सरकने” की जगह।
        अगल बगल खड़ी हुई गाड़ियों को भले लग जाये “खरोंचें “इधर उधर।

             बस ट्रक और टैंकर हर समय अपनी “कड़क” आवाज सुनाते हैं।
                  दूर से ही बोलते हैं हट जाओ हमारे रास्ते से।
             नही तो अभी तुम्हारे ऊपर अपने पहियों को चढाते हैं।
                 पता नही क्यूँ हर समय अपनी “अकड़” दिखाते हैं।

                 थोड़ी सी पतली और लंबी गाड़ियाँ रास्तों पर
                          “रैम्प वाक” करती हुई लगती हैं।
                     अपनी शक्ल और सूरत को देखकर
                        खुद पर “इतराती” नजर आती है।

                    “पैदल यात्रियों” को तो सारे वाहन ही
                                 आँखें दिखाते हैं।
                       लेकिन कभी-कभी प्यार से भी
                                समझाते हैंl।

   

Spread Positivity

                 बने हैं फुटपाथ तुम्हारे ही लिए।
        क्यूँ नही अपनी “चरण पादुकाओं” को शरीर के साथ
                      इन्हीं फुटपाथ पर चलाते हो?

               क्यूँ अपने “प्राणों “को चलती हुई सड़क पर
                         लटकाते हो “अधर” मे?

              कम से कम “फुटपाथ” का तो कर लो सदुपयोग।
       वैसे भी “फुटपाथ की दुनिया” बन चुकी है छोटा मोटा “उद्योग”।

“फुटपाथ” पर सजे बाजारों से न जाने कितने परिवारों का पेट भरता है।
    यहीं से तो जेबों को भरने का “व्यापार” बड़े जोर शोर से चलता है।

 

Spread Positivity             ( समस्त चित्र internet के सौजन्य से ) 

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s