सपनो के सहारे, पहाड़ों के नजारे 

​           

Spread Positivity

            निकली थी पहाड़ों पर घूमने 
                    विचारों के सहारे ही।

               चढ़ती जा रही थी “पगडंडियों “पर
                       “कच्चे रास्तों” पर।

               “दुर्गम “रास्तों को भी “सुगम” समझ कर
                    आगे बढ़ना सीख लिया था।

                  फिसलन का भी “अंदेशा” था।
                  दिमाग ने बड़े प्यार से दिया
                         यह “संदेशा”था।

              पहाड़ों की मिट्टी बड़ी अजीब सी होती है।
                 ज़रा सी “भुरभुरी” ज़रा सी पकड़ की
                          “कमजोर”होती है।

                  

Spread Positivity

आसपास की चट्टानों को फिर भी
                          सँभाले हुई होती है।

          रखना होता है उनपर पैर ज़रा सा सँभल सँभल कर।
                 चलना होता है हमेशा उनसे बचकर।

           पहाड़ों पर उपस्थित “वनस्पतियाँ” भी अजीब होती हैं।
                कहीं छोटी छोटी “झाड़ियाँ” तो कहीं पर
                          “बबूल “,”कीक” भी होती हैं।

     

Spread Positivity

     

        देखा अचानक से पानी का “सैलाब” चला आ रहा था।
                नीचे गिरते हुए “जल प्रपात” बना रहा था।

                         चल रही थी मंद मंद हवा भी
                    जो दिमाग मे विचारों को सुझा रही थी।

                   अचानक से दिमाग मे सवाल “कुलबुलाया”।
                      इतनी ऊँचाई पर ये जानवर कैसे पहुंचे।
                     जरूरी नही होते क्या इनके लिए भी जूते।

Spread Positivity

           खाने की तलाश ही तो है जो इन्हें यहाँ तक ले कर आती है।
                अब ये मत सोच लेना की इंसानों की तरह इन्हें भी
                                     “तफरीह” भाती है ।

                     पहाड़ों पर चढ़ने का “फितूर” सा छाया था।
                     ऊपर पहुंचने के बाद ही “सुकून” आया था।

                  नही हो रहा था कहीं से थकान का “आभास” भी।
            मन को हो रहा था सफलता को छूने का “एहसास” अभी।

                     पहाड़ों पर बैठने मे मजा आ रहा था।
               ऊपर से नीचे देखने पर खुद की मेहनत पर
                     ज़रा सा संदेह भी होता जा रहा था।

                   तभी हुआ अचानक से बड़ी जोर से शोर।
                      बादलों मे हुआ था परस्पर विरोध।

               आकाश को देखा काले बादल भी आ गये थे।
         तड़कती भड़कती बिजली को भी आकाश मे सजा रहे थे।

                अचानक से हुआ तीव्र गर्मी का “एहसास”
            आँखें खुली तब पता चला सपने मे पहाड़ों की
                               सैर हो रही थी।

                       दिमाग पड़ गया सोच मे
                 खुली आँखों से देखा गया “सपना”
           आँखें बंद होने पर “चलचित्र” सा चलता जाता है।

     आँखों को खोलकर “कर्म” करने पर हमेशा “विवश” कर जाता है।
 
                   सपने भी बड़े “अजीब” होते हैं।
               हमेशा प्रकृति के झूले मे झुलाते हैं।
             आँखें खुलने पर हम “वास्तविक जिंदगी”
                           से “रूबरू” हो जाते हैं।

Spread Positivity

( समस्त चित्र internet के सौजन्य से ) 

Advertisements

2 thoughts on “सपनो के सहारे, पहाड़ों के नजारे 

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s