गिलहरी का अनुरोध 

​                 
          

   (  चित्र http:// http://www.clicksbysiba.wordpress. com के सौजन्य से ) 

                 ऐ मानव जाति! सुन लो छोटी सी

                             मेरी भी एक बात

                   मेरी बातो को समझना मत उपदेश
                    क्यूँकि है इसमे हम जीव जन्तुओं
                       की तरफ से महत्वपूर्ण संदेश

              स्वार्थ मे पड़ कर करते हो हमेशा गलत काम
               छीनते हो हमसे हमारा सुकून और आराम

                     बनाते हो अपना सुन्दर आशियाना
                      इसी कारण से गायब कर देते हो
                            हमेशा हमारा ठिकाना

                     नष्ट करके शहरी वनस्पतियों को
                  बना लिया है तुमने कंक्रीट के जंगल
                    किया है तुमने हमारे साथ अमंगल

                 इसी कारण से करवा दिया है हम जीव जंतुओं
                          के मध्य मे दंगल

                इसके बाद भी थमता नही तुम्हारा गुरूर है
             अच्छा ये तो बताओ इसमे हम जीव जन्तुओं का
                                 क्या कुसूर है

                करती हूँ हाथ जोड़कर तुम्हारा अभिवादन
                          ये है हमारा तुमसे विनम्र निवेदन

                दुनिया को सीधे देखने मे रह गया है न अब
                                    कोई चाव
              अब नही देती मै दुनिया को बहुत ज्यादा भाव

               ये दुनिया के मकड़जाल पर रह गया है न हमे
                        अब ज्यादा भरोसा
                देखा है हमने दुनिया को देते हुए धोखा

             अभी तक देखा है दुनिया को सीधे सादे ढंग से
                   अब देखते हैं ज़रा सा उलट पुलट के

              मेरी बात  पर इतना तो अमल करते जाओ
                शहर की वनस्पतियों को तो किया है नष्ट
                कम से कम जंगलो की तरफ से तो अपनी
                            बुरी नजर को हटाओ

           

Advertisements

4 thoughts on “गिलहरी का अनुरोध 

  1. मुझे याद है बचपन में हमारे छत पर भी गिलहरीयाँ और गौरेया अक्सर दिखती अब गौरेया तो गायब ही हो गई है, गिलहरी यदा कदा दर्शन दे जाती है ।
    आपकी रचना बिलकुल सार्थक है

    Like

    1. कई सारे जीव जन्तु ऐसे हैं जो अब हमे सहजता से नही दिखते ।मेरी रचना को पढकर टिप्पणी करने के लिए धन्यवाद 😊

      Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s