बाज का दर्प ( Don’t enter, says the kite to the plane)

Spread Positivity

This post is about the conflict of a kite with an airplane .
               
विज्ञान की प्रगति आज के समय मे जिंदगी का महत्वपूर्ण हिस्सा बन गया है । आज के समय मे हम आधुनिक सुख सुविधा से मुँह भी नही मोड़ सकते ।

कभी कभी प्रकृति का हिस्सा अन्य जीव जंतुओं के ऊपर इस प्रगति का प्रभाव जाने अनजाने मे ही दिख जाता है ।

                आज सुबह की ही तो बात है ।
                   मै अपने आप के साथ थी ।

                  कर रही मौन मे खुद से वार्तालाप थी ।
                      प्रकृति के साथ शांत खड़ी थी ।

                   अचानक से आकाश की तरफ
                           नजर फिर गयी ।

                    देखते ही देखते हमारे चेहरे पर
                       मुस्कान अपना घर कर गयी ।

Spread Positivity

                      चल रही बाज और एयर क्राफ्ट
                                   मे लड़ाई थी ।

                      बाज ने अपनी सारी भड़ास निकाली थी ।
                         क्राफ्ट का पीछा करने की ठानी थी ।

                     अपने पंखो की मजबूती को दिखा रहा था ।
                     पीछा करते-करते क्राफ्ट को चार बातें और
                                       सुना रहा था ।

                      कह रहा था आये हो कहाँ से आकाश पर करने
                                     अपना आधिपत्य ।
                        यहाँ पर तो चलता रहा है हमेशा से केवल
                                    हमारा ही वर्चस्व ।

                      इतनी जोर-जोर से शोर मचाते हुये आकाश को
                                         हिलाते हो ।
                           ऐसा करके हमेशा हमारे ध्यान मे
                                    खलल डालते हो ।

                    एक के बाद एक करके उड़ते चले आते हो ।
                        हर समय अपना घमंड दिखाते हो ।

                  Spread Positivity

             देखा है हमे ऊँची उड़ान मे इतना शोर मचाते हुये ।
               तुम्हारा शोर हमेशा हमारे योग ध्यान मे व्यवधान 

                          डालता है                   

              ऊपर से तुम्हारी खिड़कियों से प्यारा प्यारा सा

                               चेहरा हमेशा हमे ताकता है ।

                   सारी मानव जाति को होती है बस तुम्हारी ही चिंता
                    कहीं बर्ड हिट से कोई क्राफ्ट न घायल हो जाये ।
                  हमे पता है तुम्हारे अंदर कई सारे लोग समाये रहते हैं ।
                 आकाश मे उनके ऊपर बर्ड हिट के डर के साये रहते हैं ।

                 लेकिन इसका ये मतलब तो नही कि क्राफ्ट भाई तुम हर
                                  समय तमतमाये रहते हो ।

                   दिन की रोशनी मे भी अपनी लाइट जला बुझा कर

                                हमे अपनी आँखें दिखाते हो ।
                             बार बार ऐसी बत्तमीजी करते हुये
                                  तनिक भी न शरमाते हो ।

                      अब ये मत सोचना कि अपनी चिल्लम पों से तुम
                            आकाश पर कर अपना आधिपत्य लोगे ।
                        बिना एयर ट्रैफिक कन्ट्रोल के भटक रास्ता लोगे ।
    Spread Positivity

                          हमे देखो कोई हमे बताता रास्ता है क्या ?
                          कभी कोई बाज आकाश मे टकराता है क्या?

                              चलो अब सीधे से अपने रास्ते जाओ ।
                      एयर ट्रैफिक कन्ट्रोल की बातों पर ज़रा गौर फरमाओ ।

                                    ये आकाश तो हमारा घर है ।
                                     हमे कहाँ भटकने का डर है ।Spread Positivity

(समस्त चित्र internet के सौजन्य से ) 

Advertisements

2 thoughts on “बाज का दर्प ( Don’t enter, says the kite to the plane)

  1. मजेदार है ”बाज का दर्प” और आपने साथ साथ इन पक्षियों से होने वाली दुर्घटनाओं के समस्या की चर्चा कर इसे अर्थपूर्ण बना दिया है.

    Like

    1. धन्यवाद 😊मेरे ख्याल से बर्ड हिट एक बड़ी समस्या है ,लेकिन हर जीवन का अपना स्थान होता है ,बस यही मेरी कल्पना मे था जो शब्दों मे बदल गया ।

      Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s