इमारत और इंसान  (We make what we think)

Spread Positivity

 Our lives are just like the building that are all around us .
सृष्टि मे निर्माण (construction)बहुत जरुरी होता है क्योंकी जीवन हमेशा चलता रहता है ।सजीव चीजों मे नव सृजन से निर्माण होता है , लेकिन निर्जीव वस्तुओं का निर्माण व्यक्ति की मेहनत और उपयोग मे आने वाले सामान के ऊपर निर्भर करती है।जीवन की जरूरतें और व्यवस्थित रहने की चाह ही निर्माण कराती है ।

           बनती हुयी इमारतें भी कितनी अव्यवस्थित
                               सी दिखती है।
    
      ज़रा सा हैरान ज़रा सा परेशान ज़रा सा बिखरी बिखरी
                               सी दिखती है।
           
        धरा भी नव सृजन के समय ज़रा सा बेतरतीब
                               सी दिखती है।Spread Positivity   

       तभी नन्हा पौधा धरती का सीना चीरकर मुस्कराता

                               सा दिखता है।

        निर्माण हो जाने के बाद ही खूबसूरती नजर आती है।
      नही तो बनती हुयी चीजें ज़रा सी बदसूरत नज़र आती है।

                    कुछ दिन पहले की ही तो बात थी।
                  मै एक बनती हुयी इमारत के पास थी।

                 चारो तरफ था धूल और मिट्टी का असर
              सूरज की तपन ने भी निकाली थी पूरी कसर।

                 किसी भी तरह के निर्माण को देखकर
                 दिमाग रहता नही है विचारों से बेअसर।

             माँ की कोख मे पलता हुआ बच्चा माँ को ही
                        अव्यवस्थित कर देता है।

Spread Positivity                   लेकिन सृजन के बाद ही तो सृष्टि का
                       अनमोल तोहफा दिखता है ।
        
            जीवन और बनती हुयी इमारत को देखते ही
                  शुरू हो जाता है दिमाग मे द्वन्द
               होता नही है इन दोनो मे कोई विशेष अंतर ।

                  करना शुरू कर दिया मेरे दिमाग ने
                     दोनो का तुलनात्मकअध्ययन ।

                    रेत सीमेंट और मिट्टी के गारे से
                 इमारत का निर्माण किया जाता  है।

              कितनी विशाल इमारतों और छोटे घरों का ये
                        आधार हुआ करता है।

              निर्माण सामग्री की मात्रा हमेशा महत्वपूर्ण होती है।
                 मात्रा सही न होने से आधार सही नही बनता।
                देखते ही देखते बड़ा सा बड़ा आलय भी ढहता।

Spread Positivity           

    देख रही थी मै निर्माण सामग्री को आपस मे मिलाते हुये
               बिना पानी के एक दूसरे से छिटक कर बिखरते हुये।

                       जीवन भी कुछ ऐसा ही होता है।
                     विचारों संस्कारों और चरित्र के बिना
                          कहाँ सही इंसान बनता है।
                  विश्वास रूपी जल से ही तो इंसान बँधता है।

               इनकी उपयुक्त मात्रा हर किसी के लिये जरूरी होती है।
                विश्वास के साथ मिलाने मे कहाँ कोई मजबूरी होती है।

                 जीवन के तेज झंझावातों मे मिलायी गयी सही मात्रा
                                    का पता चलता है।

               अगर नही है मात्रा सही तो व्यक्ति अपने आप ही उघड़ता
                                    हुआ दिखता है।

                    बड़ी से बड़ी इमारतें सिर उठा कर खड़ी रहती हैं
                       रिसते हुये पानी और तेज हवा के झोंकों को
                                      मजबूती से सहती हैं।

                               कारण सीधे खड़े होने का हमेशा
                                      आधार हुआ करता है।

                              मिश्रण निर्माण सामग्री का हमेशा
                                   महत्वपूर्ण हुआ करता है।

                           मानव जीवन और एक इमारत मे बहुत
                                      सारी समानता होती है।

                              मेरे तुलनात्मक अध्ययन का हमेशा
                                 परिणाम यही निकलता है।

     

Spread Positivity

(समस्त चित्र internet के सौजन्य से ) 

Advertisements

2 thoughts on “इमारत और इंसान  (We make what we think)

  1. कितनी सटीक बाते लिखी है आपने —

    अगर नही है मात्रा सही तो व्यक्ति अपने आप ही उघड़ता हुआ दिखता है।

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s