सड़क की कहानी ,उन्हीं की जुबानी  (A date with the city roads)

Spread Positivity

If you are a keen​ listener , then you will hear the city roads speak to you.

आपने कभी महसूस किया है कि रास्ते भी कभी-कभी बातें किया करते हैं ।चलते हुये किसी भी वाहन से अगर आप ध्यान से सड़कों को देखेंगे तो मेरी इस बात को महसूस कर सकते हैंl 

ये सड़कें मानव जीवन को बड़े पास से दिखाती है । मनुष्यों के जैसे भावों को भी दिखाती है जैसे आथिर्क विषमता के कारण मानव जीवन दिखता है, वैसा ही जीवन इन सड़कों का भी दिखता है ।
            

                  वो दिन बड़ा खास था

        मेरे दिमाग मे तरह तरह के विचारों का वास था

         अचानक  से दिमाग किसी बात पर उलझ गया
                 मन उसको सुलझाने  मे जुट गया

                   मन ने दिमाग की बात  मानी
          बाहर निकल कर तफरीह करने की ठानी

        मैने सोचा चलो देखते हैं दिन के इस पहर मे भी
                  रास्तों की कहानी उन्हीं की जुबानी

Spread Positivity                 

                  निकल पड़ी मै भी घूमने के लिये 
         अपने उत्साह से भरे हुये शरीर और दिमाग को लिये हुये

           आवागमन के साधन के रूप मे मेरी अपनी कार थी
       थोड़ी दूर तक घूमने जाने के लिये वैसे मेरी कार बेकार न थी

        लाल बत्तियों से भरे हुये शहर मे इन बत्तियों के बहाने ही
               वाहनो की गति को मिलता है जरा सा विराम

                   विराम मिलते ही ये गाड़ियाँ करती है
                    इन्ही चौराहों पर पूरी तरह से आराम

                     ये रास्ते भी कितने मजेदार  होते हैं
              कहीं चिकने कहीं सपाट कहीं ऊबड़ खाबड़ से
                               आकर लिये रहते हैं

        

Spread Positivity           

  कितनी नजाकत से ये काली काली रोड लहराती है
     जबरजस्ती अपने आप को चमकीला और साफसुथरा दिखाती है

                     गर्मी की दोपहर मे देखा तो ये
                         सड़कें बड़ा इतरा रही थी

                   अपने आप को  मृगमरीचिका से
                        भरा हुआ दिखा रही थी

       रात मे देखा तो टोल रोड इठलाती बलखाती चली आ रही थी
       अपने सिर के ऊपर तेज रोशनी वाले बल्ब को जला रही थी
             पता नही क्यों जबरजस्ती का घमंड दिखा रही थी

        ऐसा लग रहा था बड़े गुरूर के साथ अपनी कहानी सुना रही थी
               मुझसे बोली मत करना मेरे संग हँसी और ठिठोली
              सारे रास्तों मे सबसे सभ्रान्त कुल की मानी जाती हूँ
                          इसी लिये टोल रोड कहलाती हूँ

                       एक बार फिर से मुझसे मुखातिब हुई
                       बोली न समझना हमे गलियों की सड़क
                                  मै हूँ हाइवे की रानी
                          करती रहती हूँ अपनी मनमानी
                       भगाती रहती हूँ अपने ऊपर से गाड़ियों
                             को उनकी मनचाही गति सेSpread Positivity

 
                        जरा सा मेरी बात को ध्यान लगा कर सुन लो
                                अच्छे से मेरी बातों को गुन लो

                        चलना न मेरे ऊपर से मध्यम या धीमी गति से
                           ये बात समझ लेना अपनी गूढ़ मति से

                   बड़ी देर से टोल रोड की घमंड भरी बातों को सुनकर
                                   मै अनसुना करे जा रही थी

                      क्योंकी आज के समाचार पत्र मे इन्ही रास्तों की
                      कहानी पढ़ने के बाद अपने दिमाग को घूमने के
                               बहाने ही बहला रही थी

                     दिमाग ने अपना योगदान दिया टोल रोड की बातों से
                                  अपने को अनजान किया

                          भगाया मत करो जीवन को इतनी जोर से
                          कि टूट जाये जीवन की डोर किसी छोर से

                    हमेशा चलने की अपनी गति पर नियंत्रण रखना चाहिये
                    सिखाये मन जब अनियंत्रित होकर भागना तो एक बार
                    मरघट की तरफ का रुख भी जरूर करके आना चाहिये

 

Spread Positivity ( समस्त चित्र internet के सौजन्य से ) 

Advertisements

2 thoughts on “सड़क की कहानी ,उन्हीं की जुबानी  (A date with the city roads)

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s