शब्दों का सन्नाटा (Silence of words)

Spread Positivity

“Change your attitude a little and you will see that your positivity will take you places ”
हर व्यक्ति का अपना स्वभाव होता है । किसी भी बात को कहने का अपना अपना तरीका होता है । मेरे विचार से अपनी प्रतिक्रिया देने से पहले सामने वाले के नजरिये को भी समझने की कोशिश करना चाहिये ।

कभी-कभी सामान्य तरीके से कही गयी बात के भी अलग अलग अर्थ निकाले जाते हैं ।
यह सामने वाले व्यक्ति के ऊपर निर्भर करता है कि वह उन बातों मे Positivity देखता है या Negativity ……

             ये फिज़ाओं मे आज सन्नाटा सा महसूस हुआ
           सन्नाटा देखकर दिमाग ने झन्नाटा सा महसूस किया

                        खुल गये ज्ञान चक्षु धीरे से
             ऐसा लगा बड़े दिनो के बाद मन और दिमाग दोनो मिले

               

Spread Positivity

    दिमाग मे विचारों के फूल खिले
             इसी कारण से कागज और कलम एक दूसरे से गले मिले

               शब्दों के आलिंगन के कारण ही बन गये कुछ वाक्य
                      गिर गये कोरे कागज पर होकर निढाल

                            मैने सोचा हो गया कैसे ये कमाल
                           धीरे से मैने अपनी आँखो को खोला

                       विचारों को एक बार फिर से सावधानी पूर्वक
                          मन और दिमाग दोनो के साथ मे तोला

                       कहीं हो तो नही गया फिर से कोई झोलमझोल
                     क्यूँ हो गयी है लोगों की आँखे थोड़ी सी गोलमटोल
        
                     उसके बाद दिमाग ने अपनी उदारता को दिखाया
                                      बड़े प्यार से समझाया

                                 मत बोला करो ऐसे ताबड़तोड़
                     खोज लिया करो शब्दो  के थोड़े से सँभले हुये से तोड़
   Spread Positivity

                     क्योंकी शब्दों का हमेशा छिद्रा निवेषण हुआ करता है
                         इन शब्दों पर पूरी तरह से अनुसंधान हुआ करता है
  
                            तुम्हारे दिमाग को चहुँओर से परखा जायेगा
                       जबरजस्ती की नकारात्मक बातों से तोला जायेगा

                           सकारात्मकता पर प्रश्न एक बार फिर से उठेगा
                     सरल तरीके से कही गयी बात हमेशा नही पचती

                     हो सके तो शब्दों को थोड़ा सा लच्छेदार बनाया करो
                             बोलने से पहले खुद भी पचाया करो

                         आत्मा ने एक बार फिर से हिलाया मुझे
                            मेरा वास्तविक चेहरा दिखाया मुझे

                             बड़े प्यार से मेरे वजूद को सहलाया
                              बातों ही बातों मे मुझे समझाया

                     करना नही कभी अपने असली स्वभाव से समझौता
                    ओढना नही कभी अपने चेहरे पर दिखावे का मुखौटा

                               दुनिया की तरफ बार-बार मत देखो
                      अपने आप को दिखावे की आग मे मत झोको
 
                             लोगों का साथ हमेशा जरूरी होता है
                          सफलता का मापदंड दोहरा नही होता है

                   मत करना कभी अपने आत्म सम्मान से समझौता
                      क्योंकी ये संसार हमेशा आँखें बंद करके सोता

                         नम्रता का कोई दूसरा विकल्प नही होता
                       दृढ प्रतिज्ञा से  बड़ा कोई संकल्प नही होता

Spread Positivity

( समस्त चित्र internet के सौजन्य से ) 

Advertisements

4 thoughts on “शब्दों का सन्नाटा (Silence of words)

  1. शब्दों के सन्नाटे की गूँज जबरदस्त है. आपकी बाते अंदर तक उतर गई. दो बातें मुझे खास पसंद आई है —-

    करना नही कभी अपने असली स्वभाव से समझौता

    मत करना कभी अपने आत्म सम्मान से समझौता

    Like

    1. मेरे विचार से व्यक्ति का स्वभाव ही उसके व्यक्तित्व को बताता है और आत्म सम्मान के बिना तो जीवन मे कुछ भी नही रहता ।
      हौसला बढ़ाने के लिये धन्यवाद

      Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s