बच्चे मन के सच्चे  (Let us become a child everyday)

Spread Positivity

Naughtiness knows no borders ,look at these kittens indulging in some playful stuff.”
अक्सर ऐसा होता है कि छोटे बच्चे चाहे वो इंसान के हो जानवर के या पक्षियों के अपनी हरकतों से एक समान से दिखते हैं ,उनके चेहरे की मासूमियत ठहर कर बार बार उन्हें देखने पर मजबूर करती है ।

                बीते हुये कल की ही तो बात थी
                 बाहर घूमते समय मै हवाओं के
                              साथ थी

                 दिमाग मे उधेड़बुन चल रही थी
              कुछ अच्छा लिखने के लिये विषयवस्तु
                          नही मिल रही थी 

                  देखकर बिल्ली के बच्चों को खेलते हुये
           अपने चेहरे को मुस्कान से सजाने मे मशगूल हो गयी

                    एक सामान्य मनुष्य की तरह
                      सोचने पर मजबूर हो गयी

               क्या होते होंगे वही भाव जानवरों के मन मे भी
              उठते होंगे विचार सामान्य जनमानस की तरह ही

Spread Positivity                

             थी वो रात अँधियारी गर्म मौसम की मारामारी
                        सोचा हमने रात है तो क्या हुआ
            निकलते हैं थोड़ा बाहर छोड़कर घर की चारदीवारी

                 अँधियारी रात मे दूर पेड़ की छाँव मे कुछ
                                चमक रहा था
                  ऐसा लगा टिमटिमाते हुये तारों को पकड़ने
                         के लिये कुछ लपक रहा था

                         जाग उठी मन मे उत्सुकता
                 क्या दिख रहा है वहाँ पर कुछ हिलता डुलता

               पास मे जाकर देख तो बंधु बाँधवों का एक झुण्ड था
         इंसान नही लेकिन इंसानी बच्चों की तरह ही कर रहा उछलकूद था

                   माँ अपनी गंभीरता को दिखा रही थी
          हो रही बच्चों की शैतानियों से अधखुली आँखों से अपने
                       को अनजान जतला रही थी

               ऐसा लग रहा था किसी प्रतियोगिता का आयोजन
                                    हो रहा था
                 लंबी और ऊँची कूद के प्रतियोगी के साथ-साथ
                         अच्छा धावक भी तैयार हो रहा था

Spread Positivity                    

                   थोड़ी ही देर मे खेल का स्वरूप बदल गया
                होता हुआ प्यारा सा खेल युद्ध भूमि मे बदल गया

                      पूँछ उठा कर भागते हुये बिल्ली के बच्चे
                       अपने बच्चों के समान ही दिख रहे थे

              बात बात मे एक दूसरे पर चिल्लाते ,प्यार जतलाते
                  हँसते खेलते हुये दौड़ा भागी भी कर रहे थे

                 बड़े ध्यान से मै इस तरह की बालसुलभ सी
                          चीजों को देख रही थी

                देखते-देखते ही इंसानी बच्चों और बिल्ली के बच्चों
                      की आपस मे तुलना भी कर रही थी

                वही नये नये शोध या अनुसंधान करने के अनुभव
                          से बिल्ली के बच्चे भी गुजर रहे थे

                कभी किसी चीज को तेजी से भाग कर पकड़ते
                 कभी छोड़ते कभी तोड़ने की कोशिश करने मे
                            गंभीरता के साथ लगे हुये थे

Spread Positivity                           बडी देर से मै यह सब देख रही थी
                   और इन क्रीड़ाओं को देख देख कर अपने लिखने
                          की पृष्ठभूमि बनाने की  सोच रही थी

                 अचानक से थोड़ी डरावनी सी आवाज सुनायी पड़ी
              शायद माँ अपने बच्चों की सुरक्षा के लिये चिंतित हो खड़ी

                              मेरी तरफ गुस्से से देख रही थी
                   कहीं मै उसके सुरक्षा घेरे को तो नही भेद रही थी

               मैने उसकी आँखो मे देखा माँ की व्याकुलता के साथ-साथ
                             बच्चों की चिंता समायी हुयी थी
                        इसीलिये तो विडाल माँ घबरायी हुयी थी

                     थोड़ी ही देर मे वो आश्वस्त हो गयी
  उसकी भाव भंगिमा मे निश्चिंतता देखकर मै भी दूसरी तरफ व्यस्त हो गयी

                  आगे बढ़ ली मै कुछ नया लिखने के लिये
    एक नया विषय मिल गया था मुझे कागज पर उतारने के लिये

Spread Positivity              ( समस्तचित्रinternetकेसौजन्यसे ) 

Advertisements

7 thoughts on “बच्चे मन के सच्चे  (Let us become a child everyday)

  1. बहुत खूबसुरत ! मेरे और आपके विचार शायद मिलती जुलते है. मै कुछ दिनो से बच्चों की मासूमियत पर लिखने की सोच रही थी.

    Like

    1. प्रशंसा करने के लिये धन्यवाद, बच्चों के ऊपर तो जितना लिखिये उतना कम है,मेरे ख्याल से बच्चे जीवन की प्रेरणा होते है ।

      Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s