चश्मे की व्यथा (The Anguished Spectacle)

Spread Positivity

“Our lives are incomplete without some relatively inexpensive objects like spectacles”

हम सभी के साथ कुछ चीजें ऐसी होती हैं जो हमारी जरूरत बन जाती है और हमारे जीवन का महत्वपूर्ण हिस्सा बन जाती है ।उन चीजों के बगैर हमारे जीवन की जरूरतें पूरी नही होती वो हमारी कार ,मोबाइल , ए सी , जूता या चश्मा भी हो सकता है ।
कभी सोच कर देखिये इन चीजों के समय पर सही सलामत न मिलने पर कितनी असुविधा होती है और स्वभाव मे थोड़ी झुन्झलाहट भी आती है ।

इस पोस्ट को मैने अपने प्यारे चश्मे को समर्पित किया है ….
 
                   आजकल मेरा चश्मा बड़ा घुमक्कड़ हो गया है

                       पूरे घर मे खोजो कभी कहीं कभी कहीं
                                 घूमता फिरता रहता है

                    पता नही क्यूँ ऐसे काम किया करता है

                     कुछ पढ़ने, लिखने या चुनने के लिये
                     हमेशा करना पड़ता है इसका इस्तेमाल

                     पास की नजर की धोखेबाजी ने ही
                     इस कमबख्त के भाव को बढ़ावा दिया है

                      नाक पर चढ़ते चढ़ते इसकी आदत
                                  गयी है बिगड़

                      मुझे लगता है आ गयी है इसके अंदर
                                  बहुत सारी अकड़

                      समझ मे नही आती इसको सीधी साधी
                                    सी एक बात

                      एक ज्ञाननेंद्रीय को चाहिये होता है हमेशा
                               दूसरी ज्ञाननेंद्रीय का साथ

                       जब मै समझाती हूँ इसे छोटी सी यह बात
                        तो जाग उठते हैं इसके सोये हुये ज़ज्बात

                         मैने इसे समझाया तुम्हारा स्थान हमेशा
                          नाक के ऊपर होता है लेकिन तुम्हारे अंदर
                                ये अहं कैसा उछलता रहता है

                            तुमने आदत यह गलत पाली है
                    तुम्हारे स्वभाव मे ये नकचढ़ापन आना जारी है

                         कल खोजते खोजते इसे मै परेशान हो गयी

                             इसके नही मिलने से मै हैरान हो गयी

                     थोड़ी देर मे देखा मंदिर मे ही आराम फरमा रहा था

                         मुझे देखकर अपनी धार्मिकता दिखा रहा था

                           मुझसे बोला आपके ऊपर नही रह गया
                                   मुझे अब तनिक भी भरोसा

                            मैने देखा है अपने कई भाई बन्धुओं को
                                         चिरनिद्रा मे सोता

                            कुछ पल के लिये मान भी लूँ कि
                            कोई भाई बन्धु भगवान की दुआ से
                             बच भी गया लेकिन अपने हाथ पाँव
                             की सलामती से तो हमेशा के लिये गया

                              आप जब सो रही थी तब मैने सोचा
                                      सारे घर मे लूँ मै घूम
                                  जरा सा मै भी मचा लूँ धूम

                          तफरीह करते करते मंदिर के पास पहुँच गया
                          अपनी सलामती की दुआ माँगने के लिये
                                कान्हा जी के पास ही रुक गया

                         भगवान जी ने ही मुझे बचाया हुआ है
                          नही तो आपके साथ हर दिन कत्ल की
                                   रात हुआ करती है

                        कभी सिर के ऊपर से कभी और ज्यादा
                        ऊँचाई से ऊँची कूद का अभ्यास आप
                                      कराया करती है

           

          इतना बोल कर मेरी तरफ से अपने मुँह को

                                    फेर लिया

                       गुस्से से अपने कदमो को पीछे की तरफ
                                         मोड़ लिया

                               मैने शांत दिमाग से सोचा
                           बात तो कर रहा है ये बिल्कुल ठीक
                       अनजाने मे ही दे रहा है मुझे महत्वपूर्ण सीख
     
                           मैने अपने चश्मे को प्यार से समझाया
                               थोड़ा सा लाड़ भी जतलाया
                                 चलो अब मान भी जाओ
                            अब अपना गुस्सा मत दिखाओSpread Positivity

                           अब रखूँगी हमेशा तुम्हारा ध्यान
                            सिर के ऊपर से उतार कर खोजूँगी
                             हमेशा तुम्हारे लिये सुरक्षित स्थान

                       अब जल्दी से मेरे पास आ जाओ
                     अपने स्थान पर आराम फरमाओ
                     चलो तुम्हें लगा कर मै काम एक
                         अच्छा करती हूँ
    तुम्हारी व्यथा को अपने शब्दों मे दुनिया के सामने रखती हूँ                        

  

Spread Positivity (समस्तचित्रinternetकेसौजन्यसे ) 

    

                

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s