आग या अन्नपूर्णा  (Fire – Provider of food)

Spread Positivity


“Fire is the cornerstone of our lives .Though hidden, it is the most important part of our lives and provides us with food .”


इस पोस्ट को लिखने का ख्याल मुझे रसोई मे खाना बनाते समय आया था जिसमे मैने आग के सकारात्मक और नकारात्मक दोनो रूप की तुलना करना शुरू किया तो कुछ पंक्तियाँ बनती चली गयी।इस पोस्ट को लिखने का उद्देश्य किसी भी प्रकार से नकारात्मक विचारों को प्रमुखता देना नही है सिर्फ अपने विचारों को तुलनात्मक रूप से रखना है ।

हर व्यक्ति के जीवन का महत्वपूर्ण समय रसोई मे बीतता है । कभी अपनी पसंद का कुछ बनाना होता है कभी घर के अन्य सदस्यों को कुछ खिलाना होता है ।एक अलग ही दुनिया होती है रसोई की ….

Spread Positivity        

    “ये रसोई की दुनिया  भी बड़ी अजीब  होती है
       किसी दिन उसी रसोई मे व्यंजन की भरमार तो
       किसी दिन केवल खिचड़ी की दरकार होती है “

           रसोई मे जलने वाली अग्नि भी कितना
                          सार्थक काम करती है
     
           जलती है मध्यम कभी तीव्र लेकिन
                       भोजन पकाने का काम करती है

            इस अग्नि के रूप अनेक
                        धधकती है जब तीव्र रूप मे
                               कितना विनाश करती है

             पता चलता है हम इंसानो को तब
                        जब ये दावानल का रूप धरती है

             जलती है जब हवन कुण्ड मे
                          स्वधा को स्वाहा करती है

Spread Positivity              घर को सकारात्मक ऊर्जा से भरकर
                            देवताओं को समर्पित होती हैlo

             जलती है जब “दीपशिखा” बनकर
                             कितनी शांत सी दिखती है

             चलती हुयी तेज हवाओं के थपेड़ों को
                        अपनी तेज और मद्धिम होती हुयी
                              रोशनी से झेलती है

              भगा देती है तिमिर को
                      अपनी ज्योति से प्रकाशित करती है

               फूँक देती है अपनी तपन से
                        मानव शरीर को राख करती है

               छोटी सी माचिस की तीली भी
                        काम बड़ा गजब का करती है

               मंदिर के दिये और अगरबत्ती को
                        जलाने के साथ-साथ
                          कचड़े को जलाने का
                             काम भी करती है

                देखा बड़े ध्यान से अग्नि को
                     भोजन को पका रही थी
 
             अपनी तेज और मद्धिम होती हुयी आँच से
                     मेरे दिमाग मे विचारों को भी ला रही थी

             सोच रही थी मै कभी-कभी
                   मंदिर का दिया भी अपनी ज्योति से
                       घर को फूँक दिया करता है

             ईश्वर के देखते देखते ही
                       सब कुछ अग्नि को समर्पित होता है

             जलाना होता हैअगर दीपक मंदिर मे भी कभी
                   प्रणाम करना होता है हमेशा अग्नि देवता को भी

             रसोई की दुनिया  हमेशा
                    अग्नि के साथ होती है
                        न हो अग्नि अगर रसोई मे
                           तो रसोई किसी काम की नही होती है

              हमेशा अग्नि की सकारत्मकता
                      ही ध्यान मे आती है
              क्योंकी सकारत्मक भाव से जलायी गयी
               अग्नि ही स्वादिष्ट भोजन को पकाती है

Spread Positivity            अग्नि के महत्व को हम भूल नही सकते
            क्योंकी पाषाण युग मे हम अब रह नही सकते

               इसी बात पर अग्नि देवता को
                                      करते हैं प्रणाम
                रोज के खाने को करते हैं
                                   केवल उनके ही नाम

Spread Positivity

Spread Positivity

( ( समस्त चित्र internet के सौजन्य से ) 

Advertisements

2 thoughts on “आग या अन्नपूर्णा  (Fire – Provider of food)

  1. कहते है अग्नि ही ऐसे देवता है , जिन्हे आवाह्नन कर बुलाया जा सकता है. आपने उनके सम्मान में खूबसुरत रचना लिखी है. बहुत खूब !!i

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s