वृहन्नला  (My take on transgenders)

Spread Positivity

Many people are always judging others according to money and appearences .There are others who are unable to take quick decisions .My post is about such mentally infertile people .

“वृहन्नला”  महाभारत मे एक वर्ष के अज्ञातवास के समय पराक्रमी अर्जुन के द्वारा अपनाया गया नाम था । अर्जुन “वृहन्नला “के नाम से रनिवास मे स्त्रियों को नृत्य और संगीत की  शिक्षा दिया करते थे । उस समय अर्जुन अप्सरा उर्वशी के द्वारा दिये गये श्राप से नपुंसक थे ।

Spread Positivity

इस पोस्ट को लिखने के लिये मै WordPress से ही प्रेरित हुयी जब मैने वृहन्नलाओं के ऊपर लिखा एक लेख पढ़ा । यहाँ पर “वृहन्नला” शब्द का उपयोग मैने शारीरिक अपूर्णता  से ग्रसित वृहन्नलाओं के अलावा मानसिक नपुंसकता से ग्रसित इंसानो के लिये भी किया है । मानसिक नपुंसकता केवल पुरूषों के ऊपर ही नही बल्कि महिलाओं के ऊपर भी लागू होती है।

अपने आस-पास सामाजिक परिवेश मे परिवार मे हर जगह मानसिक नपुंसकता के शिकार लोग देखने को मिलते हैं ।इस post को लिखने का उद्देश्य किसी वर्ग या व्यक्ति विशेष को अपमानित करना नही है । सामान्यतया हम सभी के अंदर कहीं न कहीं मानसिक नपुंसकता छिपी रहती है ।मेरा उद्देश्य सिर्फ अपने विचारों को व्यक्त करना है…

              देखती हूँ हमेशा नगरों महानगरों मे
                        स्वांग रचायी हुयी “वृहन्नलाओं” को

              चेहरे पर पुता हुआ श्रृंगार
                        उसके अंदर से झाँकता हुआ
                                 उनका बनावटी व्यवहार

               सोच मे पड़ जाती हूँ कभी-कभी
                           क्या शारीरिक अपूर्णता ही
                                           “वृहन्नला “बनाती है

                दिखते हैं लोग चारो तरफ
                     तौलते हैं नजरों से इंसानो को
                        आथिर्क विषमता एवम् रंग रूप ही
                                        उनका पैमाना होता है
                                            अपने अहं के तराजू पर ही हमेशा
                        इंसानो को तोलना होता है

                चेहरे के ऊपर चेहरा छिपाये हुये
                             दिखते हैं इंसान समाज मे
                                क्या वो नही होते वृहन्नला ?

                महाभारत के अर्जुन और शिखण्डी का
                         ” वृहन्नला” रूप था “चक्रधारी” का रचा हुआ

Spread Positivity                 आजकल की “वृहन्नलायें” दिखायी देती हैं
                          समाज मे चारो तरफ
                 क्या महिला क्या पुरुष पूर्ण आधिपत्य से
                          विराजमान मुखौटों के पीछे

                ” वृहन्नलाओं” की तालियों की आवाज के साथ-साथ
                           उनकी लहराती हुयी आवाज
                               मुग्ध करती है लोगों को
                                 तृप्त करती है “वृहन्नला”
                             मानसिकता वाले इंसानो को

                   शारीरिक नपुंसकता के भरोसे अपना
                           पेट पालती हुयी “वृहन्नलाओं” को देखकर
                                   इंसान उन्हें हँसी का पात्र समझता है 

                   उनके नृत्य और संगीत के मजे मे डूबता रहता है
                    अपने विचारों अपने संस्कारो को भूल जाता है
                     हमेशा दिखावे के बाजार मे डोलता रहता है
                      क्या वो नही होते “वृहन्नला “?

                    सुनती हूँ लोगों की बातों को बड़े ध्यान से
                         विचारों के मझधार मे फँसे हुए
                     बिन पेंदी के लोटे जैसे लुढ़कते हुये इंसानो को
                         क्या वो नही होते “वृहन्नला” ?

                     देखा था “वृहन्नलाओं “के झुण्ड को
                             नरमुण्ड के बीच मे डोलते हुये
                                कितनी नजरों को देखा उन्हें
                                    ऊपर से नीचे तक तोलते हुये

                    लोगों की नजरों मे हमेशा होते हैं
                         अजूबे वाले भाव के साथ-साथ परिहास भी
                             जीवन होता है जिस किसी के पास भी
                               क्या होता नही उसे जीवन जीने का अधिकार भी

                   अपने अंदर की कमियों को हर कोई छुपाता है
                            लेकिन दूसरे की कमियों को
                             बड़े उत्साह से दिखाता है
                            क्या वो नही होते “वृहन्नला”?

                  नजर गयी “वृहन्नलाओं” की तरफ
                          अपने काम मे मशरूफ थी
                              कार के शीशों के सामने खड़ी होकर
                                 अंदर बैठे हुये इंसानो के सामने
                                   हाथ फैलाने के लिये मजबूर थीं

                  

              

Spread Positivity

( समस्त चित्र internet के सौजन्य से ) 

  

                  

Advertisements

6 thoughts on “वृहन्नला  (My take on transgenders)

  1. क्या खूब लिखा है आपने. ढेरों जानकारियों से आपकी पोस्ट ओतप्रोत तो है ही. साथ ही ज़बर्दस्त कटाक्ष भी सही और सटीक है —

    इंसानो को तोलना होता है

    चेहरे के ऊपर चेहरा छिपाये हुये
    दिखते हैं इंसान समाज मे
    क्या वो नही होते वृहन्नला ?

    Like

    1. इस पोस्ट को लिखने का विचार मुझे आपकी ही एक पोस्ट को पढने के बाद आया था
      मेरा हौसला बढ़ाने के लिये धन्यवाद
      अगर कोई भी व्यक्ति व्यवहारिक है तो समाज मे रहते हुये मानसिक नपुंसकता को आराम से देख सकता है
      मैने इसे सकारात्मक दृष्टिकोण से लिखने की कोशिश किया है😊

      Liked by 1 person

      1. अगर मेरा पोस्ट आपको लिखने के लिये कुछ भी बिचार देता है , तब यह मेरे लिये सम्मान की बात है और यह आपका बड़प्पन दर्शाता है.
        आप का पोस्ट बहुत अच्छा और सटीक है. आप प्रसंशा की हकदार है. 😊😊😊

        Like

  2. आपकी दूसरी पोस्ट की कवर इमेज ने मुझे बेटियों के ऊपर लिखने के लिये प्रेरित किया था।मुझे ये तो नही पता कि मेरी पोस्ट किस स्तर की है बस जो दिमाग मे आ जाता है वो लिख लेती हूँ ।मुझे लगता है मुझे अभी बहुत कुछ सीखना है😊

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s