विचारों का उद्यान (Garden of thoughts)

Spread Positivity

आज के समय मे भागती हुयी सी जिंदगी है ,चारो तरफ रेलमपेल है।मशीन से भाव ,मशीन सी जिंदगी, “छोटी-छोटी बातें कहीं खो गयी ,जीवन की आपाधापी मे गुम हो कर रह गयीं”।

अगर आप सुबह की सैर का शौक रखते हैं और उस शौक को पूरा करने के लिये स्थानीय पार्क का सहारा लेते हैं तब ध्यान से देखने पर पार्क भी बहुत कुछ कह जाता है, हम सभी को हमारे जीवन मे आने वाले उतार चढ़ाव के साथ-साथ जीवन का वास्तविक स्वरूप भी दिखा जाता है,वही पार्क पूरे 24 घंटे मे अपने अलग-अलग रूप दिखाता है ।

                  देखा है क्या भोर की किरणों को
                         पार्क की नम जमीन को ?

                   दिखती है अरूषि किरणों से
                          खेलती हुयी सारी वनस्पतियाँ

                    दिखती है बड़ी मासूम सी ये वनस्पतियाँ
                             जोर से खिलखिलाती हुयी अपनी
                                     आँखों को मिचमिचाती हुयी

                     ये पार्क की नम जमीन भी
                              हरियाली से भरी होती है
                                  कितने लोगों के वजन को
                                       कम करने के प्रयास मे जुटी रहती है

                     बंद माचिस की डिब्बियों जैसे
                              घरों से निकलती है भीड़

                      समा जाती है पार्क की चारदीवारी के अंदर
                                 लगता है चारो तरफ भीड़ का समंदर

  

Spread Positivity

                   दिखते हैं योग की मुद्रा मे

                             समाधि लगाये हुये से लोग
 
                       इसी बहाने से चल रहा है
                             साँसों को साधने का प्रयत्न जोर शोर से

                       किसी को टहलना है किसी को दौड़ना है
                              किसी को तेज तेज चलकर ही
                                  अपने को स्वस्थ बनाना है

                      दिखते हैं श्वानों के साथ भी घूमते हुये लोग
                                श्वान के बहाने ही अपने को रखते हैं निरोग

                       समझ मे नही आती छोटी सी एक बात
                                श्वान घुमाता है इनको या यूँ ही है
                                     इनका और श्वान का साथ

Spread Positivity

                        पक्षियों का कलरव भी  बड़ा सुकून देता है
                                  दिनभर की ऊर्जा को अपने अंदर संजोता है

                        कितनी आँखें चकर मकर सी घूमती
                                  पार्क की हरियाली के साथ-साथ
                                         भीड़ मे भी हरियाली खोजती

                          हर तरह के खिलाड़ी दिखाई देंगे
                                         आपको पार्क के अंदर
                                             कुछ तो दिखते हैं खेलते हुये
                                                कुछ दिखते हैं बिल्कुल बंदर

                          लगता है सूर्य भगवान भी
                               ऊपर से ही लेते हैं मज़ा                                       

                             कभी करते हैं छाँव
                                          कभी देते हैं धूप की सज़ा

Spread Positivity

                        दिन चढ़ते ही पार्क का स्वरूप
                                अचानक से बदल जाता है
                                    आसपास इकट्ठा हुआ भीड़ का
                                        सैलाब किसी और दिशा मे बढ़ जाता है
                                           जीवन की तेज धूप के जैसे ही
                                             पार्क भी वीराना सा नजर आता है

                         सूर्य जब समेटने लगता है अपनी किरणों को
                                       तब दिखती है  एक बार फिर से  रौनक

                      रात होते ही यही पार्क
                             सूनसान सा हो जाता है
                                जीवन की भी अनदेखी और
                                    अनचाही सी कहानी सुनाता है

                      जीवन मे होगी जब तक
                            उत्साह और उमंग के साथ
                                    जीवन जीने की चाह
                                       तब तक दिखाई देगी
                                           हमें आगे बढ़ने की राह

               

Spread Positivity

         ( समस्त चित्र internet के सौजन्य से ) 
                                     

Advertisements

4 thoughts on “विचारों का उद्यान (Garden of thoughts)

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s