बचपन (Childhood )

Spread Positivity

आजकल चारो तरफ बच्चों की मस्ती दिखाई पड़ रही है । बच्चों का खिलंदड़ मिजाज हर जगह दिख रहा है ।समय चाहे सुबह का हो या शाम का , पार्क हो या खेलने की कोई और जगह , हर जगह बाल सुलभ चंचलता दिखाई पड़ती है ।

जिन बच्चों ने भी अपने पाँव पर चलना शुरू कर दिया है उन्हें किसी भी प्रकार से झूलों या पार्क मे भागना है ।यही सब बाहर खड़े होकर आराम से देख रही थी । थोड़ी सी समझदार बहनें अपने भाइयों का हाथ पकड़कर झूले पर घुमा रही थी तो कहीं भयंकर युद्ध का माहौल था ……

  

Spread Positivity

          
             दो बच्चों को साथ मे देखा
                    मेरी गो राउण्ड के पास मे देखा

             खिलखिलाता हुआ सा बचपन देखा
                        भाई और बहन का प्यार देखा

             आओ पकड़ो मेरा हाथ भाई
                          क्यूँ करते हो तुम लड़ाई
 
              बहन भाई को समझा रही थी
                         अपने बालो को खिचवा रही थी

Spread Positivity

              दोनो का विश्वास भी देखा
                         हाथो मे एक दूसरे का हाथ देखा
   
              पहले तुम चढ़ो मै घुमाती हूँ
                         लेकिन तुम तो मुझे चिढ़ाती हो

             नटखट आँखे घूम रही थी
                           कुछ बदमाशी ढूंढ रही थी

             आओ मिलकर खेले खेल
                           बाहर तो है रेलमपेल

             जीवन मे आयेगी जब भी कठिनाई
                       तब तुम बनना सारथी मेरे भाई

             घूमते घूमते दुनिया दिखती है गोलमगोल
                                चंदा तू तो गोलमटोल

             वो देखो आकाश भी घूमा
                          साथ मे सूरज को ले डोला

          इन बच्चों का किसी से न कोई बैर
                      अब आप सुनाइये अपनी खैर

            ये बचपन बड़ा सुहाना है
                     ये रूठना और मनाना है

           जब होंगे हम बड़े सयाने
                   तब बदलेंगे जिन्दगी के मायने

           तब जिंदगी की सच्चाई दिखेगी
                       राहों मे कठिनाई दिखेगी

           तब याद आयेगा यही बचपन
                     इन्ही शरारतों को तरसेगा मन

           करते समय सामना कठिनाईयों का
                         राह दिखायेगा यही बचपन

           अपने आप को भी राह मे देखा
                        मेरी गो राउंड की चाह मे देखा

          आँखों मे आ गयी जल्दी ही चंचलता 

            आ गयी एक बार फिर से प्रफुल्लता

            मेरा भी बचपन झाँक रहा था
                       धक्का मुझे मार रहा था
 
           मेरे कानों मे धीरे से कुछ बोल रहा था
                  आओ बचपन को फिर से जीते हैं
                       कल क्यूँ ,आज से ही शुरुआत तो करते हैं
  

            

Spread Positivity

( समस्त चित्र internet के सौजन्य से ) 

       

Advertisements

2 thoughts on “बचपन (Childhood )

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s