आलसी जूता(Lazy Shoes) 

Spread Positivity

रोज़ के काम की भागादौड़ी कभी कभी खुद को ही उलझा देती हैं । मेरे जैसे लोग तो अक्सर अपने फुटवियर को ही अनदेखा करते हैं । शायद इसीलिये बेचारे हमारे फुटवियर उपेक्षित महसूस करते हैं । 

कुछ दिन पहले की ही तो बात है व्हाटसएप मैसेज को पढ़ने के बाद मुझे इस पोस्ट को लिखने का ख्याल आया । उस मैसेज को पढ़ने के बाद मैने बड़े प्यार से अपने जूतों को कई बार देखा,उस मैसेज का मुद्दा ये था कि हमारे फुटवियर भी हमारे व्यक्तित्व की पहचान  होते हैं । 

अपने जूतों को बड़ी देर तक ध्यान से देखती रही थोड़ी देर मे लगा वो मुझसे कुछ कहना चाह रहे हैं । उसके  बाद तो जो दिमाग मे आया लिखती चली गयी पता नही कविता बनी या कुछ और ……

               ऐ मेरे प्यारे प्यारे जूते !
                        तुम क्यूँ  रहते हो हर समय सोते

                कभी तो समय पर जाग जाया करो
                          जरा हांथ मुँह भी धो कर आया करो

      

Spread Positivity

               चलो अच्छा अब मुझे ये तो बताओ

                            क्यूँ रहे हो तुम इस तरह से फफक
                               क्या किसी ने बोला है तुम्हे अपनी वाणी से कड़क

                मालूम है मुझे तुम हो बड़े कर्त्तव्यनिष्ठ
                         तुम्हारी निष्ठा मे  कहीं से नही है कोई कमी

                 क्या तुम्हारी सूरत से ही जमाना तुम्हे आँकेगा
                         क्या  खाक किसी ने फाँकी होगी जो तुमने फाँका होगा

                 तुम हो मेरे अच्छे वाले दोस्त
                         तुम मे कहीं से भी नही है कोई खोट

                  दोस्ती निभाना  अच्छे से जानती हूँ
                          तुम्हे कभी भी मै नीचा नही मानती हूँ

                 मुझे पता है मेरा तुम्हारा साथ लंबा है
                          अब बताओ तुम्हें फिर किस बात की चिंता है

                 कराते हो तुम मेरी चाल मे आत्मविश्वास का बोध
                        कैसे मान लूं मै कि है तुम में कहीं से भी कोई खोट

                 क्या हुआ तुम्हें आजकल अकेलापन भाता है
                          कहीं तुम्हारा स्वास्थ्य तो नही गड़बडाता है

                 पड़े रहते हो आलमारी से नीचे, कहीं भी
                          अब तुम ही बताओ ये बात भी तो सही नही

                 अगर तुम्हे चाहिये कोई नये संगी साथी
                          तो कल ही मै बाजार से नये जूते भी ले कर आती

                   बताया करो न अपने मन की बात
                        मत रहा करो तुम इस तरह से उदास

                   मुझे पता है तुम्हारे मन मे है छोटी सी कसक
                            आज हो रही है तुम्हें नहाने की बड़ी तलब

                   ये तुम्हारे मुहँ पर लगी है जो धूल और मिट्टी
                              आओ करते हैं आज इनकी पूरी तरह से छुट्टी

                    उसके बाद ही तुम्हारा रूप निखरेगा
                            क्या नया जूता दिखता है जो तुम्हारा सौन्दर्य छिटकेगा

                    इतना परेशान क्यूँ होते हो चलो आओ बाल्टी मे ही सो जाओ 

                                  जब हो जायेगी तुम्हारी साफ सफाई

                                   तब कूद कर बाहर आ जाना मेरे भाई

Spread Positivity                      

                           रखा करो न अपने मुँह को बिल्कुल उजला
                           साफ सुथरा देख कर तुम्हें दूसरों का दिल जला

                            ” वो देखो चारो तरफ काला धुआँ बिखरा”

               

Spread Positivity

(समस्त चित्र internet के सौजन्य से ) 

 

                       

                   

Advertisements

4 thoughts on “              आलसी जूता(Lazy Shoes) 

  1. धन्यवाद😊 मुझे अपनी चीजों से लगाव रहता है चाहे वो सजीव हो या निर्जीव वो मेरे घर का कोई भी सामान भी हो सकता है किचेन के बर्तन से लेकर पौधों तक उन्हीं के बीच मे से इस तरह की चीजें लिख जाया करती हैं।

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s