Spreading Positivity in the pall of darkness

Spreading positivity

“To me the greatest duty to mankind is of spreading positivity”

कैसा खामोश सा दिन था वो कितना सोया सोया सा कितना खोया खोया सा । आदत के मुताबिक उठ कर बाहर निकली , आकाश की तरफ देखा आज भी गायब थे सूर्य भगवान ऐसा लग रहा था जैसे आॅफिस मे लोग अपना बैग अपने टेबल पर रखकर तफरी करने निकल जाते हैं , यही काम सूर्य भगवान ने भी करना शुरू कर दिया है । चारो तरफ थोड़ा सा उजाला कर के गायब हो जाते हैं ।

आकाश की  तरफ देखा फिर जमीन की तरफ देखा । आकाश और जमीन के बीच में धुन्ध फैली हुयी थी । ये सब देखकर ऐसा लगा मानो आज बादलों ने चारों तरफ सफेद चादरें ही फैला दी हैं ।कुहरे के अंदर सबकुछ छुप सा गया था , हवा मे आज ज्यादा ही ठिठुरन थी ।

सारा दिन ऐसे ही धुन्ध के साथ बीत गया शाम होते ही मन कर गया बाहर निकलने का पांव मे स्पोर्ट्स शूज डालकर और जैकेट पहनकर निकल पड़ी मै एक लंबी सैर पर ।आज पूरे दिन मैने छत पर और बालकनी मे कबूतरों को एक लाइन मे बैठे हुये ही देखा , रोज से थोड़ा मोटे नजर आ रहे थे ।

Spreading positivity आज तो उन कबूतरों से ज्यादा उड़ान भी नहीं भरी जा रही थी । सिर्फ कभी अपनी गर्दन को ऊपर फिर नीचे कभी दाँयें फिर बाँये करके ही एक्सरसाइज की जा रही थी । अब ऐसे मे तो मोटापा बढ़ना लाजमी है चलते-चलते दिख ही गयी सड़क के किनारे पकती हुयी चाय की गुमटी इलायची और अदरक की महक सारे वातावरण मे फैलती जा रही थी । तभी दिख गये ठिठुरती हुयी सर्दी और हल्की सी बरसात मे छोटा सा गर्म कोना ढूँढते हुये कुत्ते जो तेजी से भौंक भी नहीं पा रहे थे । कितने आलस मे पड़े हुये थे । अपने कान को नीचे किये हुये ऐसा लग रहा था अपनी ऊर्जा को बचा कर रखने का इरादा था उनका , भौंकने से फालतू मे खर्च हो जायेगी ।

Spreading positivity

ऐसा लग रहा था सारे आलसी पशु पक्षियों का जमावड़ा हमारे ही इलाके मे हो गया है । तभी देखा कुछ लड़कों का समूह चला आ रहा है मस्ती मे बातें करते हुये बढ़ी हुयी दाढ़ी बेतरतीब फैले हुये बाल जो सामान्य से ज्यादा ही लंबे थे शायद सर्दी से बचने के लिये लंबे बालो को फैला लिया होगा ।

बेटियों के लंबे बालों की तरह-तरह की चुटिया बनाते -बनाते किसी के भी फैले हुये बालों को देखकर मै सोच मे पड़ जाती हूँ कि इस समय इस ड्रेस के साथ कौन सी चुटिया अच्छी लगेगी फिश फ्लेट्स , फ्रैन्च नाट्स ,साधारण गुथ ,पोनीटेल …..या हेयर बैन्ड लगाकर ही बालों को आँखों से थोड़ा पीछे करना सही रहेगा ।

 कम से कम आँखों को सहज रूप से देखने का रास्ता तो मिल जायेगा नहीं तो नगर निगम वालों के द्वारा तो फुटफाथ की सफाई तो नाममात्र की ही होती है ऐसे लोग जो बिना नीचे देखे चलते है अनजाने मे ही अपने जूतों से फुटपाथ की सफाई भी करते चलते हैं ।

बाजार मे नये साल वाली रौनक और जोश अब ठंडा पड़ चुका है लेकिन सामान्य दिनो वाली रौनक अब भी दिखायी पड़ रही है । फुटपाथ पर सामान बेचते हुये दुकानदार सबसे ज्यादा बातूनी दिखायी पड़ते हैं उनको आदत सी पड़ गयी है मोलभाव करने वालों से  निपटने की ।

Spreading positivity

बचपन मे सोचा करती थी ये दुकान वाले कितने अमीर होते हैं जो चीजें खरीदने हम इनके पास आते हैं और थोड़ी सी मात्रा मे लेकर जाते हैं वो तो इनके पास भरी पड़ी रहती है ।सब्जी वाले के  पास सब्जी ही सब्जी ,मूंगफली वाले के पास मूंगफली ही मूंगफली …….तब बड़ों की समझायी हुयी बातें समझ मे नही आती थी ।

दिख गयी तभी गोलगप्पों की दुकान जब खुद पर नियंत्रण करना बड़ा मुश्किल हो रहा हो और आपका मन बार बार धक्का दे तो , गोलगप्पों को आँखों से देखकर ही संतोष करना चाहिये ।दुकान के पास खड़े हो कर 1से50 नहीं तो 30तक की गिनती करो और खिसक लो दुकान के सामने से ।

सबसे अच्छा उपाय है मन पर नियंत्रण करने का , हर समय इसका कहना मानने की जरूरत बिल्कुल नही है ,फालतू की ईटिंग हैबिट डालता है और बाद मे अफसोस भी कराता है ,या तो खाने के बाद आत्मग्लानि न हो  तब तो सही बात है ।खाओ और खाने के बाद दुखी हो तो शरीर को और लगता है रिजल्ट वेट मशीन बताती है ।

वापस आते समय बैटरी वाले रिक्शे मे बैठने का मन करने लगा क्या राजसी एहसास होता है रिक्शे मे बैठने पर ,जो मँहगी से मँहगी गाड़ियों मे बैठने पर भी नही होता होगा । चेहरे को छू कर जाती हुयी ठंडी ठंडी हवा अगल बगल चमचमाती हुयी गाड़ियों के बीच मे तो धुन्ध कहीं खो गयी थी । स्वर्ग का सा एहसास हो रहा था ।

Spreading positivity मेरे विचार से जरूरी नहीं की हर कोईअपनी खुशियों के पल को ज्यादा पैसा खर्च कर के ही खोजे कभी-कभी छोटी-छोटी सी चीजें भी मन को प्रसन्न कर देती हैं । कुहरे या बारिश का बहाना बनाकर घर मे रहने से अच्छा है बाहर निकलना । बाहर निकलते ही उत्साह सा महसूस होता है । बाहर की चहल पहल सोये हुये और खोये हुये दिन को भी   Positivity से भर देती है ।

Spreading positivity

        So always be positive friends 

   ( समस्त चित्र internet के सौजन्य से ) 

Advertisements

4 thoughts on “Spreading Positivity in the pall of darkness

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s