हे शारदे माँ !

​     

Spring season

           बसंत पंचमी के आते ही हमारी आँखों के सामने सरस्वती पूजन की सारी तैयारी घूमने लगती है ।घर मे तो छोटी सी पूजा ही की जाती थी लेकिन स्कूल मे बड़े स्तर पर पूजा का आयोजन हुआ करता था । 

एक बार फिर से मै एक दिन पहले से ही उत्साहित हो गयी सरस्वती जी की आराधना को लेकर ।आज सुबह-सुबह जल्दी-जल्दी सारी तैयारी कर के बेसन के हलवे का प्रसाद तैयार कर अपनी बेटियों को पूजा करने के लिये कहा ।दोनो ने अपनी छोटी सी बुद्धि के अनुरूप अपने स्कूल की प्रार्थना ” मातु शारदे कृपा वारदे” बड़े मधुर स्वर  मे गाया ।

उनके  मुंह से मीठे – मीठे स्वर मे प्रार्थना सुनने के बाद अब मेरी भी बारी थी प्रार्थना करने की मेरे अंर्तमन ने अपने ही शब्दों मे देवी सरस्वती की आराधना की …        

                    हे वीणाधारिणी माँ !

                            स्वीकारो न मेरा भी प्रणाम

                        हे स्वर की देवी !
                             तुम्हें शत् शत् मेरा प्रणाम

                       देना हमेशा आँखो को उजाला
                             दूर करना हमेशा सारा अँधियारा
                                 हे हंसवाहिनी माँ !स्वीकारो न मेरा भी प्रणाम

                       जो भी दिया माँ तूने , वो किया है
                                     पूरे सर्मपण से मैने स्वीकार
                                       हे ज्ञानदायिनी माँ ! स्वीकारो न मेरा भी प्रणाम

                       कराना न मेरी लेखनी या वाणी से कभी भी
                                   किसी का भी अपमान
                                        हे अम्बे माँ !स्वीकारो न मेरा भी प्रणाम

                        रहेगी पूरी कोशिश हमारी
                                  रहूँ हमेशा शरण मे तुम्हारी
                                        हे माँ चंद्रकांति ! स्वीकारो न मेरा भी प्रणाम

                        दे दो न सभी को इतना तो ज्ञान
                                 स्वीकारें सभी अधीनता तुम्हारी
                                      हे माँ बुद्धिदात्री ! स्वीकारो न मेरा भी प्रणाम

                        ज्ञान के इस उजियाले मे
                                  देना न कभी मुझे , जरा सा भी अभिमान
                                       हे वीणावादिनी माँ ! स्वीकारो न मेरा भी प्रणाम

                         की है आराधना , पूरी श्रद्धा से तुम्हारी
                                  हे वागीश्वरी माँ ! स्वीकारो न मेरा भी प्रणाम

                         पकड़ी है कलम आदेश से ही तुम्हारे
                                 है तुम्हारे ही हांथों मे अब लाज हमारी
                                      हे ब्रम्हचारिणी माँ ! स्वीकारो न मेरा भी प्रणाम

                         देना कम से कम इतना तो ज्ञान
                                 कर सकूं विवेक से इतना तो काम
                                         जनमानस की भीड़ मे कर सकूं
                                               दुर्जनों और सज्जनो की सही पहचान
                                                   हे वरदायिनी माँ ! स्वीकारो न मेरा भी प्रणाम

                         कर दो न सब का मन निर्मल
                                 रख दो परे राग द्वेश से चंचल मन
                                     हे जगती माँ ! स्वीकारो न मेरा भी प्रणाम

                         कर दो न मेरे मन को इतना सशक्त
                                 महसूस न करे कभी भी अपने को अशक्त
                                       हे कुमुदी माँ ! स्वीकारो न मेरा भी प्रणाम

                         सदा रखना मेरे सिर पर तुम अपना हांथ
                                   हे विद्यादायिनी माँ !स्वीकारो न मेरा भी प्रणाम

                         मेरे मन मंदिर मे बना लो न हमेशा के लिये अपना निवास
                                   हे शारदे माँ !स्वीकारो न मेरा भी प्रणाम

Spring season

                          हे माँ शारदा !सबको सकारात्मक विचार देना 

                   ( समस्त चित्र internet के सौजन्य से ) 

Advertisements

2 thoughts on “हे शारदे माँ !

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s