Heritage Walk :These walls have a positive message to tell

Spread Positivity
This heritage walk had a positive message for me and the other visitors.The majestic walls seem to say that nothing is permanent .

सुना था बचपन से मैने लाल किले का नाम । सामान्य ज्ञान के प्रश्नोत्तर मे भी कभी-कभी उलझ जाया करती थी, आगरा के लाल किले और दिल्ली के लाल किले मे अंतर नहीं कर पाती थी । बाद मे पता चला दिल्ली वाला नया है । 

इतने साल हो गये दिल्ली मे रहते हुये लेकिन कभी  जाना न हो पाया ।अपनी दैनिक जिम्मेदारियों के कारण या बाहर निकलने का आलस ये दोनो ही मिलकर रोक देते थे मुझे ऐसी  जगह जाने से ।

Heritage walk मे जाने का मौका मिला सोचा चलो हम भी चलते हैं , देखे क्या बला है ये दिल्ली का लाल किला । पुरानी दिल्ली की तरफ का सफर अपनी गाड़ी से करना थोड़ा बेवकूफी वाला निर्णय लगता है । जगह-जगह पर जाम की चिल्लम पों से अगर दूर रहना है तो हमारी मेट्रो से अच्छा कोई साधन नही है आवागमन के लिये ।

चाँदनी चौक मेट्रो स्टेशन से लाल किले तक का सफर रिक्शे का उसके बाद ticket लेने के साथ-साथ security की सारी formalities पूरी करने के बाद लाल किले के अंदर ।ऊँची ऊँची लाल रंग की दीवारें दूर तक फैली हुयी  ऐसा लगा मुझे अपने पास बुला रही हो , मुझसे कुछ कहना चाह रही हो …….

                  आओ मेरे पास तो आओ …
                               मेरी बातों को तो गुनो …

                  जरा ध्यान लगाकर सुनो …
                             मेरे ही सहारे जरा …
                                   इस किले की कहानी तो सुनो …

                 मै हूँ लाल किले की दीवार …
                            मै हूँ शक्ति का प्रतीक …
                
                  मै हूँ अहं का ही एक दूसरा रूप …
                              मै हूं अब इतिहास …
 
                 मैने क्या क्या देखा है?
                     मैने तख्तो ताज पर लोगो को …
                                चढ़ते हुये देखा है …

                मैने तख्तो ताज के लिये ही …
                         लोगो को लड़ते हुये देखा है …

                 मैने तख्तो ताज के लिये ही …
                            लोगो को दफन होते हुये देखा है …

                  तख्तो ताज की शान के लिये ही …
                             लोगो को दीवारों मे चुनते हुये देखा है …

Spread Positivity                 

                देख रही हैं आप चील और कौओं को …
                                उड़ान भरते हुये …
                
                 आदत हो गयी है इन्हें शताब्दियों से …
                                मुर्दों को यहाँ वहाँ देखने की …

                 इन्होंने भी अपना आशियाना …
                                        यहीं बना लिया है …

                 पता है इन्हें ऐसे किलो मे होने वाले …
                                            अघोषित युद्धों का …

                 निर्दोषों को छलावे से …
                                      मारे जाने  का …

                 शांत खड़ी हूँ शताब्दियों से …
                                    चुपचाप से देखती रहती हूँ…

                 यहाँ से आने जाने वाले लोगों के …
                                     चेहरे को पढ़ती रहती हूँ…

                 जो सुनना चाहता है …
                                    उसे यहाँ की कहानी सुनाती हूँ…

                 मेरी मजबूती को देखकर लोग …
                                        दंग रह जाते हैं …

                 जाते-जाते मेरी तस्वीर खींच कर …
                                           जरूर ले जाते हैं …
    
                 बड़े गर्व से लोगों को बताते हैं …
                               ये है लाल किले की दीवार …
                                         और ये है उसके गुम्बद …

                लेकिन मेरे अंदर की व्यथा को
                                     समझ नही पाते हैं

                आपने देखा मुझे ध्यान से …
                                  सोचा आपसे ही कह दूँ …

                 अपने अंदर के उबलते हुये जज्बात को …
                                       आपके सामने ही उड़ेल दूँ …

                 शाहजहाँ और मुमताज की बातें तो यहाँ …
                                                     हर कोई जानता है …

                  लेकिन जो हुआ था छल प्रपंच यहाँ …
                                           वो किसी को न भाता है …

                 वो देखा सिंहासन आपने …
                                     दूधिया संगमरमर का बना हुआ …

                 कितने काले दिल वालों को उसने …
                                      अपनी गोद मे सहा है …

                 उठ गयी थी तलवारें ,बरछी ,तीर और कटार …

                                            मारे गये थे इसी सिंहासन के लिये लोग बेशुमार …

Spread Positivity                      

                    देखिये पड़ा है कैसे धूल धूसरित …
                                            समय की महत्ता हमे बताता है …
           
                    सोचती हूँ इतिहास से ही …
                                            ले लो कुछ  तो सबक …

                     ये सत्ता मोह माया छल और प्रपंच …
                                            हो सका है इसका अब तक न कोई अंत …

                     पहले होते थे ये महलों की दीवारों मे …
                                             अब होते हैं ये राजनीति के गलियारों मे …

                      मै हूँ अहं की लड़ाई का ही प्रतीक …
                                         कुछ तो लो मुझसे भी  सीख …
 
                      जो रह गया अहं मे …
                                      वो ढह गया है पल मे …

                      जाकर ये बातें सब को बताना …
                                      मेरे बारे मे कुछ अलग सा …
                                               किस्सा भी सुनाना …

दीवार की बातें सुनने के बाद जल्दी ही मेरा ध्यान प्राकृतिक सुन्दरता की तरफ चला गया । क्योंकी ऐसी जगहों पर हरियाली भी अच्छे से दिखायी देती है । आकाश की तरफ देखो तो बाज ही बाज दिख रहे थे कोई अपने पेट को भरने मे लगा हुआ था तो कोई तिनके इकट्ठे कर के घोसला बनाने मे ।

Spread Positivity

ये सब देखते-देखते मै इसमे खो सी गयी थी कि अचानक से मेरे पैर के पास एक नन्ही सी गिलहरी आ कर खड़ी हो गयी । मैने आगे बढ़ने की कोशिश की वो मेरे सामने आकर मुझे डराने की कोशिश करने लगी । ऐसा लगा मुझसे बोल रही हो अच्छा मेरे इलाके मे ऐसे कैसे घूम रही हैं आप ।

आपको पता नही है क्या? कि हमारे दादा ,परदादा ,नाना ,नानी सब यहीं पर रहते थे आप कहाँ से आ गयी ? मेरे जोर से हँसते ही वो वहाँ से भाग गयी मुझे ऐसा लगा shocked हो गयी हो कि मै तो इन्हे डरा रही थी और ये हँस रही हैं । बड़ी दूर से पेड़ पर चढ़कर मुझे गुस्से से घूर रही थी । मै भी अपने रास्ते पर आगे बढ़ गयी।

Spread Positivity

सलीमगढ़ के किले के नाम पर टूटी फूटी दीवारें और कुछ अवशेष ही दिखायी दे रहे थे ।
मै सोचने लगी रात मे इस तरह के स्थान कितने भयावह हो जाते होंगे । शांत मन से ऐसे किलों और जगहों पर बैठो तो सही मे ये बोलते हुये से ही  लगते हैं । ऐसा लगता है मानो कह रहे हो छल करने वाले हर जगह हर समय मिलेंगे विजयी बनना है तो , अपने आत्मविश्वास को अपनी ताकत और अपना सच्चा दोस्त बनाइये ।

Spread Positivity                                        So friends, always try to find positivity 

                 in areas of  darkness and pessimism .

 (समस्त चित्र internet के सौजन्य से )            

               

Advertisements

4 thoughts on “Heritage Walk :These walls have a positive message to tell

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s