Spread Positivity:Select your Thoughts

Spread Positivity


      “We should spread positivity through all our acts”

हम सभी का जीवन बहुत महत्वपूर्ण है । अपने परिवार और समाज के लिये हर व्यक्ति अपना-अपना उत्तरदायित्व निभाता है ।

 जैसे-जैसे समय आगे सरकता है , हम सब की जिम्मेदारियाँ बढ़ जाती है। समाज और देश के प्रति जवाबदेही बढ़ जाती है।हम अपने आपको एक निश्चित दायरे मे बाँध कर नही रख सकते हैं । जिस समाज और देश मे आप रह रहे हैं हमेशा उसको कुछ न कुछ देना होता है ।निश्चित तौर पर हर किसी को Positive ही सोचना चाहिये और वही Positivity समाज को देनी चाहिये ।

वैसे क्या केवल हमारे सोचने से समाज मे Negativity का प्रवाह कम हो जायेगा ? ये सोचना गलत नही है ।लेकिन कोशिश करने मे बुराई क्या है।ज्यादा कुछ नही तो अपने बच्चों को Positive सोच वाली परवरिश तो दे ही सकते हैं ।

समाज मे या आपके आस-पास होने वाली उथल-पुथल का असर निश्चित तौर पर हर किसी व्यक्ति के व्यक्तित्व पर पड़ता है। आप किसी से यह आशा नही कर सकते कि कोई व्यक्ति हर समय हर जगह Positive behaviorही रखे ।

परिस्थितियाँ Negativity की तरफ बार-बार धक्का देती है लेकिन जरूरत इस समय पर हमेशा यही होती है कि खुद पर विश्वास होना चाहिये ।बिना आत्मविश्वास के कोई भी व्यक्ति कटी पतंग के समान हो जाता है जिसकी कभी कोई दिशा नही होती ।यही समय आपको Negativity के भँवर मे फँसा सकता है ।ऐसे समय मे आवश्यकता होती है अपनी आँखो और दिमाग को खुला रखने की ।

Spread Positivity एक छोटा सा बच्चा जब अपने आप बैठने की या चलने की कोशिश करता है तो कितना निरीह सा दिखता है। उसके आस -पास उपस्थित उसके शुभचिंतक उसको दुलार के साथ-साथ प्रोत्साहित करने मे जुट जाते हैं और वो अपने आप को बैठने या चलने की कोशिश मे पूरी तरह से लगा देता है।

हमारे देखते ही देखते वो आराम से बैठने लगता है , हमारी उन्गलियों  के सहारे ही खड़े होने लगता है और फिर एक दिन उन्गलियों को छोड़कर भागना भी शुरू कर देता है ।उसके बाद उसको पकड़ने की कोशिश मे उसकी माँ की ही आफत आती है।लेकिन बच्चे का Positive afford  रंग लाता है ।

Spread Positivity हमे भी अपने जीवन जीने का प्रयास Positive attitude से करना चाहिये ।अपने आस-पास होने वाली Negative activities से अपने आप को परे रखने की कोशिश करना चाहिये यही सब सोचते-सोचते पता नहीं कब मेरे शब्द और भाव दोनो गद्य रूप से पद्म रूप मे परिवर्तित हो गये पता ही नही चला और इतनी बड़ी कविता बन गयी।

मेरी ही लिखी हुयी कविता मुझे एक बार फिर से Positivity की तरफ मोड़ ले गयी ……

                  सच बोलने के लिये जिगर का बड़ा होना चाहिये ..
                               तारीफ करने के लिये अहंकार का दमन होना चाहिये …

                   मुस्कुराना हर किसी को नही आता दोस्तों….
                               मुस्कुराने के लिये आँखो का खुला होना चाहिये ..

                   सपनो के सहारे मुस्कुराता हर कोई है …
                              खुली आँखो से मुस्कुराना भी सीखना चाहिये….

                    झूठी तारीफ करने की कला भी आनी चाहिये …..
                          न आती हो तो राजनीति विज्ञान की पाठशाला मे जाना चाहिये….

                    सबसे बड़े दुश्मन अपनो मे ही छिपे होते हैं…..
                                  आस्तीन के अंदर कोबरे साँप छिपे होते हैं…..

Spread Positivity

                   जहर जिनका होता है सबसे बेहतरीन…..
                               विश्वास और अपनो को तोड़ने मे कहीं से नही होते हैं कमतरीन….

                    देखना हो तो अपने आस-पास ही देख लो….
                                न समझ मे आये तो आँखो को फाड़ – फाड़ कर देख लो….

                    हमेशा करना चाहिये दूसरो की सज्जनता व निजता का सम्मान …..
                                   जिससे बढ़ा सकता है हर कोई अपना मान ….

                    भावुकता की जड़ें इतनी मजबूत क्यूँ होती हैं…..
                                     आँखो से ही हमेशा जुड़ी क्यूँ  होती है …..

                    करना नही चाहिये जल्दी ही लोगो के ऊपर विश्वास …..
                                     वरना जल्दी ही खो सकते हो आप अपना आत्मसम्मान…..

                    सभी  के लिये जरूरी होता है अपने पंखो को फैलाना…..
                                          नही तो पड़ सकता है जिंदगी भर पछताना…..

                   समझना चाहिये हमे परिंदो की उड़ान को …..
                                          समझना चाहिये हमे उनकी भी थकान को…

                     दिखती नही कभी उनके स्वभाव की उथल-पुथल…..
                                  चाहिये नही होती उनको जिंदगी मे ज्यादा सहूलियत …

.                   बिंदास होकर के जीवन जीना सीख लो …..

                                      स्वभाव में अपने बेफिक्री रखना सीख लो …

                     हमेशा सीखना होता है कुछ नया सा ……
                                          नही तो हमेशा चाहिये होगी दूसरो की दुआ ….

                    दुआओं के भरोसे जिंदगी नहीं काटी जाती …..
                                   बिना कर्म किये कुछ पाने की इच्छा नही की जाती ……

                     जिंदगी के फलसफे को समझना होता नही आसान ….
                                    देखना पड़ता है लोगो का खुद के प्रति बर्ताव …

                      एकबार करके विश्वास तो जरूर देखना चाहिये ….
                                      मन पर न सही दिमाग पर तो ऐतबार करना चाहिये ….

                      कब तक रहना होगा अविश्वास की मझधार पर ….
                                       कभी तो लौटना ही होगा विश्वास की धार पर ……Spread Positivity

                    

  हमें बनाना होगा अपने आप को सशक्त ……
                                        रखना होगा अपने व्यवहार को सरल और सहज …

                      दूसरो के व्यक्तित्व से अपने को मत आँको ……
                                         बुराइयाँ अगर झाँकती हैं तो उसे मत ढाँको ….

                       चाहो तो खत्म कर सकते हो बुराइयों को जड़ से …..
                                      मानो तो स्वतंत्र कर सकते हो अपने को इनकी जकड़ से …..

                        विजय कर लो अपने अहंकार पर ….
                                        मनन कर लो मेरे इस विचार पर …..

                        बनाना है अगर सकारात्मक समाज …..
                                         तो छोड़ना होगा नकारात्मकता को अभी और आज ……Spread Positivity

                             

  So always be positive friends

            ( समस्त चित्र internet के सौजन्य से )

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s