Spread Positivity : The Ocean mirrors our thoughts

Spread Positivity

शांत दिखता हुआ समुद्र अपने अंदर कितनी सारी उफनती हुयी नदियों को जगह देता है । समुद्र के किनारे खड़े होकर देखने पर हँसती खिलखिलाती हुयी उसकी लहरें और बहती हुयी मंद-मंद शीतल हवा से हम अपने आप को आनंदित महसूस करते रहते हैं और हमारा मन Positivity से भर जाता है । हमारे अंदर  निश्चित तौर पर ‘ Positive effect of nature’ आता है ।

समुद्र का नीला पानी और नीला आकाश कितना सुकून देता है न मन को । पाँव को छू कर जाती हुयी लहरें अपने साथ-साथ पाँव के नीचे की रेत को भी सरका ले जाती हैं । ऐसा लगता है कि अपनी ताकत दिखाते हुये कह रही हो ऐ मनुष्य!! कितना अभिमान करता है रे तू!!चल अभी तेरे पांव के नीचे से रेत सरकाती हूँ ।

समुद्र के अंदर अगर भूचाल आया तो सूनामी का उठना तो निश्चित है फिर विनाश को रोकना मुश्किल है ।

कई बार तो अच्छा लंबा चौड़ा व्यक्ति भी चारों पांव चित्त हो जाता है ।अपनी ताकत का पता चल जाता है ।प्रकृति चाहे तो हमें हमारी ताकत का पता फटाफट लगवा देती है ।

Spread Positivity

समुद्र को शांत दिमाग से देखने और सोचने पर जीवन मे आने वाले उतार चढ़ाव को हम उससे जोड़ सकते हैं ।समुद्र मे अथाह पानी होता है न ,कभी सोचा है आपने कितनी तरह की वनस्पतियाँ जीवजंतु सब ज्वार के समय चढ़ती हुयी लहरों के साथ-साथ किनारे पर आते हैं और भाटा के समय वापस से समुद्र मे समा जाते हैं । ठीक ऐसा ही तो हमारा जीवन भी होता है……..

                   ये क्या तूफान आ रहा है ….
                             या विचारों का भूचाल आ रहा है ….

                 सँभल सको तो सँभल जाओ…..
                              सच मे तूफान आ रहा  है ….

                 बदल गया अगर रुख हवाओं का ……
                                 गिर जायेंगे , दरख्त बड़े – बड़े भी….
                                        ये भी कहता जा रहा है. . ये भी कहता जा रहा है……..

                 बच सको तो बच जाओ…….
                                  कुछ ऐसा ही कहता जा रहा है……

                 जीवन की आपाधापी मे ……
                                    ये कैसी उलझने हैं…..

                लिखना तो था गद्य…..
                                  लेकिन ये तो पद्म लिखता जा रहा है….

                हर जीवन है कुछ अलग सा…
                                        ये भी कहता जा रहा है ….

                बहती है नदियाँ, करती हुयी कलकल…..
                                       ये शोर तो नहीं है ,ये ही कहता जा रहा है…..

                पढ़ा है जिसने ‘ मनुस्मृति ‘वो भी कहता जा रहा है …..
                                         जीवन की सच्चाइयों को भी तो समझता जा रहा है…..

                  हमने भी देखा है, तुमने भी देखा है ……
                                          सूर्य की किरणें ही सत्य है ,इसमे न धोखा है…..

                  चंद्रमा की शीतलता से ही है, मन की शीतलता…..
                                           ये भी कहता जा रहा है ….ये भी कहता जा रहा है …..

                   वो है परिंदो की चहचहाहट …..
                                         या भावों के आने की आहट ….
                                                   ये भी कहता जा रहा है ..ये भी कहता जा रहा है

                  मन के भावों का भी आना जाना …..
                                            यूँ ही चलता जा रहा है …यूँ ही चलता जा रहा है ….

                 सागर की लहरें हैं , कैसी उद्वेग से भरी….
                                             कभी गिरती हैं , कभी उठती हैं , वेग से भरी…..

Spread Positivity                   वो दिखता है हिमालय , किसी तपस्वी के जैसा…
                                              देखकर हिमशिखाओं को हो रहा है …
                                                             मन मे , झंझावात ये कैसा …

                  वो शहरों के अंदर, एक अजीब सा शोर है …..
                                                   आकाश को तो देखो ,हो गया अब भोर है …..

                ये दिन और रात का ,होना ही शाश्वत है …..
                                                    जैसे जन्म और मृत्यु का, होना ही सत्य है …..

                 समझ लिया है जिसने इसको , वही जिया जा रहा है..
                                          नहीं तो जीवन को विष समझ कर ,ही पिया जा रहा है …

                  .जीवन जीना है तो, सरलता से जी लो……
                                   छलावे को छोड़ दो ,समग्रता मे जी लो…..

                      मन के भुलावे को ,समझ लो छलावा ….
                                    जिसने समझ लिया इसे ,उसने किया न दिखावा….

प्रकृति के पानी के स्रोत भी हमारे स्वभाव की  Positivity और Negativity दोनो को बताते हैं ।कभी शांत मन से सोचिये और अपने आप को उनसे जोड़ने की कोशिश करिये ।

Spread Positivity           So always be positive friends

        ( समस्त चित्र internet के सौजन्य से )                                              

                  

 

Advertisements

2 thoughts on “Spread Positivity : The Ocean mirrors our thoughts

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s