Spread Positivity:The Naughty Kiosk

मनुष्य जीवन अद्भुत है ये हम सभी जानते हैं । हर मनुष्य का अपना विशेष स्वभाव होता है ।कोई भी व्यक्ति परिपूर्ण नही होता है।अच्छाई और बुराई की मात्रा कम या ज्यादा हर किसी के अंदर होती है।

किसी के स्वभाव की सहनशीलता और विनम्रता ज्यादा दिखती है तो किसी के स्वभाव की अधीरता और अभिमान ज्यादा दिखता है । किसी की अच्छाईयाँ छिप जाती हैं तो किसी की बुराइयाँ छिप जाती हैं ,लेकिन जीवन चलता रहता है ।

ये सारी बातें हमे रोजाना के जीवन मे देखने को मिलता है ।बस ध्यान देने वाली बात ये होनी चाहिये की हमारे या आपके स्वभाव की Negativity के कारण कहीं आप किसी का अनजाने मे नुकसान  तो नहीं कर रहे हैं ।

किसी भी व्यक्ति का स्वभाव public place मे जाकर ज्यादा दिखता है । जब हम कहीं कतार मे खड़े होकर संघर्ष करते हैं ।आजकल हमारे देश मे लोगो का बैंको के चक्कर काटना आम सा हो गया है।


अगर आप का मन न करे तब भी अपने आप को धक्का मारकर बैंक जाना ही पड़ता है ।कभी ATM की line मे लगने के लिये कभी deposit या अन्य काम के लिये । घंटो line मे खड़े होने के बाद आखिरकार हमारा नंबर भी आ ही जाता है और हम विजयी मुद्रा मे बाहर निकलते हैं ।बाहर निकलते हुये मन अचानक से कुछ कहने  लगता है …….

            चलो खत्म हुआ संघर्ष हमारा ।
                             हो गया प्रयत्न संपूर्ण हमारा ।।

             पीछे वाले आ जाओ आगे ।
                            अब आ गयी तुम्हारी बारी ।।

              क्यूँ  हो इतने उद्वेग से भरे ।

                       रुक जाओ न थोड़ी सी देर भले ।।

               दिखा सकते हो थोड़ा सा तो धैर्य ।
                              है नहीं किसी का किसी से कोई बैर ।।

                हल्ला -गुल्ला शोर -शराबा ये , है नहीं सही रास्ता ।
                               काम खत्म होने के बाद , किसी का न किसी से कोई वास्ता ।।

बैंक का काम खत्म करने के बाद bill जमा करने के लिये मै kiosk machine की line मे खड़ी हुयी । हे भगवान! कितनी चटोरी मशीन होती है तीन घंटे line मे खड़े होने के बाद मिले पैसो को चट करने मे उसे तीन मिनट भी नहीं लगे ।

एक नंबर की चटोरी मशीन लग रही थी उसे देखकर मुझे Delhi की गोलगप्पे के stall पर गोलगप्पे खाती हुयी लड़कियाँ याद आ गयी । उन लड़कियों और kiosk machine मे मुझे ज्यादा अंतर नहीं मालूम पड़ रहा था ।

किसी भी गोलगप्पे की दुकान के पास खड़े हो जाओ कितनी जल्दी -जल्दी गोलगप्पे गायब होते हैं ।बेचारा गोलगप्पे वाला अभी गोलगप्पों मे पानी ही भर रहा होता है कि दोने वाले हाथ उसके सामने आ जाते हैं ।ठीक वैसा ही अनुभव मुझे आज bill जमा करते समय हो रहा था।

अभी एक नोट डाल ही रही थी , तुरंत ही गायब हो जा रहे थे ।मुझे थोड़ा सा भी समय नहीं दे रही थी kiosk machine । ऐसा लग रहा था कि बीच-बीच में मुझे आँखे दिखा कर बोल रही हो 500 के पुराने नोट मत खिलाना भइय्या उससे मेरा गला खराब हो जाता है ।

एक बात का विशेष ध्यान रखना 1000 का नोट तो बिल्कुल भी मत खिलाना पुरानी चीजें खाने से stomach infection होने की संभावना बहुत ज्यादा होती है । फिर ऐसा लगा कि मेरा हाथ रोककर बोल रही हो चलो 100-100 के ही नोट खिला दो ।बाद मे हंसते हुये बोलने लगी कि2000 की नयी नोट को बाद मे सोंठ वाले पानी के रूप मे खिला देना digestion सही रहता है ।

मुझे बड़ा गुस्सा आ रहा था kiosk machine के ऊपर सिर्फ अपना पेट भरने मे लगी हुयी है ।

वैसे भी मेरी तीन घंटे की मेहनत चट कर गयी है । आजकल लोग ATM मशीन को ज्यादा महत्व दे रहे हैं लेकिन इस बात से kiosk machine के ऊपर कोई ज्यादा असर पड़ता हुआ नहीं दिख रहा है उसे सिर्फ नोट खाने से मतलब है ।

Bill जमा करने के बाद मेरा भी जल्दी घर जाने का इरादा बदल गया ।
 बचा हुआ समय गोलगप्पे वाले का stall खोजने मे चला गया ।
सोच रही थी क्या मशीन है खुद तो नये -नये नोट खाती है ,और हमे गोलगप्पे की याद दिलाती है ।
हमारी healthy life style पर नजर लगाती है ।
चलो कोई बात नहीं एक दिन तो खाना बनता है ।
थोड़ी देर मे मै भी गोलगप्पे के stall पर थी । 100 के नोट और गोलगप्पे दोनो को बड़े प्यार से देख रही थी और kiosk machine द्वारा खाये गये अपने 100 के नोटों को भी याद कर रही थी ।
 
कभी-कभी निर्जीव वस्तुओं को भी अपने आप से जोड़कर देखिये खाने के बहाने ही आप का मन Positivity से भर जायेगा ।

So always be positive friends

( समस्त चित्र internet के सौजन्य से ) 

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s