Spreading Positivity : When Nature inspires to write

ऐ मन क्या हुआ खुश है ? मन के अंदर से आवाज आयी हाँ खुश हूँ । कुछ नया लिखने की चाह है, उत्साह है, उमंग है ।

सुबह-सुबह भक्ति की आवाज है, पक्षियों की चहचहाहट है , सूर्य भगवान की दमक है ,ठंडी -ठंडी शीतल हवा है । सबकुछ तो मन को प्रसन्न करने वाला ही है ।

क्या किसी के अंदर अपने आप को धक्का मारकर कुछ अच्छा करने का उत्साह आ सकता है,आत्मविश्वास बढ़ सकता है ?अंर्तमन ने जवाब दिया हाँ आ सकता है ।

यहीं से Positivity का प्रवेश  होता है । जब इसतरह के विचार शक्तिशाली रूप मे आने लगे तो समझ लो कि कुछ भी असंभव नही है ।

जब इस तरह के विचार आते हैं तो मन मे कुछ अंर्तद्वन्द उठते हैं । परिणाम स्वरूप कुछ नया उपजता है । आज के अंर्तद्वन्द  ने कविता रूप मे जन्म लिया ।

               आज फिर से उठे हैं , कुछ नये अंर्तद्वन्द ।
                              लो बन गये फिर से , कुछ नये छंद ।।

                   लिखती है कलम कुछ भी।
                               मन की उड़ान कहीं भी ।।

              ये क्या ? वो देखो ,उठ गयी किसी की अर्थी ।
                                    वो देखो , आ गया नव जीवन ।।

                  रुका है क्या कभी जीवन चक्र ?
                                    मिला है क्या किसी को अमरत्व?

          सभी ने देखे हुये हैं , बिखरते हुये से भी कुछ पल ।
                            सभी ने सहेजे हुये हैं , अनमोल से भी कुछ पल।।

                 कितना खोया और कितना पाया ।
                                  ये समझ मे  किसे आया ।।

                  वो झूमता हुआ सा गगन ।
                                  वो चूमता हुआ सा चमन ।।

                  वो हंसती हुयी सी कलम ।
                                 वो बजती हुयी सी मृदंग।।

                  वो खिलता हुआ सा कमल।
                              वो फिसलता हुआ सा पल।।

                  वो गरजते हुये से बदरा ।
                                वो बरसते हुये से बदरा।।

                  वो ढलती हुयी सी शाम।
                                वो बहती हुयी सी नाँव।।

                  कुछ ठिठकता हुआ सा पल।
                               कुछ कहता हुआ सा मन।।

                  वो रहा इंसाफ का तराजू ।
                               क्यूँ रहता है हमेशा बेकाबू?

                  वो गयी सावन की मस्ती ।
                                लो आ गयी ठिठुरती सी सर्दी।।

                  वो गया भीगा हुआ सा मन
                                लो आ गया खिला हुआ सा मन।।

                  वो गयी सूर्यास्त की लालिमा ।
                                 आ गयी प्रभात की अरुणिमा ।।

                  

 वो गया बचपन का भुलावा ।
                                  आ गया जिंदगी का छलावा ।।

                   वो छलते हुये से पल ।
                                   कुछ कहते हुये हर पल ।।

                   वो परिंदो की भाषा ।
                                 लाती है मन मे नयी आशा ।।

                    वो तितलियाँ रंग -बिरंगी ।
                                  उड़ती फिरती है फिरंगी ।।

                     आँखो ने देखा है उजाला ।
                                   सपनो ने झूला है डाला ।।
 
                     लिखना है कुछ नया सा ।
                                   उमंग और उत्साह से भरा ।।

                 अभी तो लिखने है , मीठे से कुछ गद्य …..
                               अभी तो लिखने है , सीधे से कुछ पद्म …
                                   अभी तो लिखने है , तीखे से कुछ व्यंग्य …

                       वो हवाओं को भी तो गुनो ।
                                  कुछ उनकी सिहरन को तो सुनो।।

                       वो गयी धूप की तपन ।
                                    लो आ गयी गुनगुनी सी छुअन ।।

आज फिर से उठे हैं कुछ ………….

सुबह-सुबह शांत दिमाग से प्रकृति को निहारने से निश्चित तौर पर मन Positivity से भर जाता है और पूरे दिन की भागदौड़ के लिये आपको ऊर्जावान कर देता है 

                (समस्त चित्र internet के सौजन्य से ) 

   
   

  

Advertisements

2 thoughts on “Spreading Positivity : When Nature inspires to write

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s