Story of Life : Honeycomb of Positivity 

आराम से मिला पका-पकाया भोजन करने मे कितना मजा आता है न । हम स्वाद ले लेकर तृप्त होते रहते हैं । थोड़ी बहुत कमियाँ भी निकाल देते हैं , लेकिन उस भोजन को बनाने से पहले की मेहनत और तैयारी को हम सभी भूल जाते हैं ।

ठीक वैसे ही जैसे शहद खाने या चाटने से पहले हम ये भूल जाते हैं कि इस एक चम्मच शहद को तैयार करने मे मधुमक्खियों को कितनी मेहनत लगी होगी ।

कुछ दिन पहले की ही तो बात है आराम से खड़े होकर प्रकृति का नजारा ले रही थी । तभी सामने से 4-5 मधुमक्खियाँ उड़ती दिखायी दी ।बड़ी तेजी से उड़ी जा रही थी बेचारी multistory building  की भीड़ मे फूल वाले पौधे खोज रही थी ।

ऐसा लग रहा था मानो एक दूसरे से पूछ रही हों, तुझे मिला क्या कहीं फूलों वाले पौधे का जमावड़ा । दूसरी ने नाक सिकोड़ते हुये बोला कहाँ यार यहाँ तो ज्यादातर लोगों ने या तो money plants या तो show plant लगा रखे हैं

फूलों वाले पौधे को खोजने के लिये बड़ी मेहनत करनी पड़ती है , तू समझती नहीं है इसीलिये  तो slim trim हूँ बहुत दूर तक जाती हूँ ,फूलों का रस इकट्ठा करने के लिये । थोड़ी देर मे ही तीसरी भी उनके बीच मे कूद पड़ी। अरे यार ! इन दुष्ट कबूतरों के चक्कर मे न हमें ज्यादा मेहनत करनी पड़ती है। सारी मधुमक्खियाँ उसकी हाँ मे हाँ मिलाने लगी ।

सही कहा यार तूने अरे! वो देख उस balcony में भी जाल लगा लिया , बड़ी मुश्किल होती है न हमे उसमे घुसकर फूलों का रस लेने मे न, अगर ले भी लेती हूँ तो बाहर निकलना मुश्किल हो जाता है मेरा तो दम घुटने लगता है ।

इतनी देर मे 8-10 मधुमक्खियाँ और आ गयी उनकी बातचीत इतनी जोर-जोर से हो रही थी की उसकी भनभनाहट मेरे कानों तक पहुंच रही थी । ऐसा लग रहा था मानो किटी पार्टी से बाहर निकलकर ,एक दूसरे के कपड़े और खाने पर नुक्ताचीनी कर रही हो। जल्दी ही meeting over हो गयी सबको अलग-अलग area दे दिया गया था शायद ।

क्योंकि सब अलग-अलग society की तरफ उड़ चली उनकी बातचीत का एक महत्त्वपूर्ण part ये भी था कि कौन-सी society ज्यादा maintain है ।क्योंकी उसके ऊपर ही उस society की हरियाली निर्भर करती है । बेचारी इस बात से बहुत दुखी थी कि लोग फूलों वाले पौधों की जगह show plant ज्यादा लगाते हैं ।

उनके बारे मे बिल्कुल नही सोचते एकाद मधुमक्खियों के तो आँसू भी निकल रहे थे। मै आराम से खड़े होकर उनके हाव भाव को देख रही थी । आसपास के ही किसी फ्लैट के  छज्जे से उनका लगाव बढ़ रहा था ।

 कल शायद रानी मधुमक्खी आयी थी , छज्जा देखने यहाँ अपना आशियाना बनाना ठीक है कि नहीं, उसने सारी ममधुमक्खियों से पूछा । सारी मधुमक्खियाँ अगल बगल उड़ कर गयी उसके बाद अपनी -अपनी राय रानी मधुमक्खी को देकर उड़ चली । इनमे से किसी का भी इरादा चमचागिरी का बिल्कुल नही लग रहा था।सब अपनी -अपनी report देकर  अपने अपने काम मे  लग गयी।

मै भी अपने काम मे लग गयी शान्त दिमाग से वापस खड़े होने का समय शाम को मिला । फिर से मेरा ध्यान उस तरफ गया जहाँ मधुमक्खियों का जमावड़ा हो रहा था उनकी बातों को ध्यान से सुनने की कोशिश करने लगी उनकी भनभनाहट का अनुवाद करने लगी ।

उसमे से एक जो कुछ भी बोल रही थी उसे सुनकर मै तो चौंक गयी और कान लगाकर उसकी बातों को ध्यान से सुनने लगी वो बड़े सरल भाव से सारी मधुमक्खियों को बता रही थी । यार तुम लोंगो को मालूम है क्या?  मेरी नानी और दादी दोनो ने मुझे ये बात बतायी है । वैसे तो सामान्यतौर पर नानी और दादी की बातों मे समानता कम ही होती है ।लेकिन इस बात के लिये वो एकमत थीं । इसीलिये मुझे उनकी बात पर आँख बंदकर के विश्वास है।

वो कह रही थी यार ये मुम्बई मे बड़े भाई ने जो घर बनाया है न उन्होंने हमारे घर से ही उसकी design चुरायी है । दूसरी ने बोला कौन सा बड़ा भाई अरे! तुम्हे नहीं पता वो 1bilion dollars की skyscrapers (गगनचुम्बी) Antilia जो बनी हुयी है । सब झूठे हैं कहते है Chicago based architect ने design की है ।

लेकिन तुझे मालूम है वो chicago वाले architect  हमारे hives को निकाल कर ले गये थे फिर अच्छे से देखकर उन्हे Antilia बनाने का ख्याल आया ।उस मधुमक्खी की आँखों मे बड़ा घमंड था।देखो हम भी अपना घर कितनी मेहनत से गगनचुम्बी इमारतों के ऊपर बनाते हैंl कितने बड़े -बड़े हमारे hives होते हैंl

हमारे घर के आसपास रखे पक्षियों के पीने के लिये रखे पानी के बर्तन हमारे swimming pool होते हैं Antilia मे भी वैसे ही बनाया हुआ है । हम तो बिना airstrip के ही traffic से दूर अपने घर मे land कर जाते हैं । Antilia वालो ने तो airstripभी बनायी  हुयी है ।

कितने सारे कमरे होते है न हमारे घर मे उनके घर मे भी same to same और तुझे मालूम है interior भी हमारे घर से चुराया हुआ है।कितना storage space हमारे पास होता है उनके पास भी है ।बड़े नकलची लोग होते है इस दुनिया मे । सारी मधुमक्खियाँ उसकी बातों से सहमत नजर आ रही थी ।Positivity से भरी हुयी उनकी बातें थी । सब अपने -अपने विचार रख रही थी किसी ने बोला यार tailor bird का घर भी इन इन्सानो ने नहीं छोड़ा। उसके जैसा घर भी बनाया है foreign country में । उसमे से कई तो इस लिये परेशान थी कि , कहीं किसी दिन कोई बड़ा businessman हमारा घर ही अपने रहने के लिये न निकाल ले जाये ।

बड़ी दैर तक मै उनकी बातें सुनती रही उनकी ईमानदारी और मेहनत की कायल हो गयी उनकी बातों मे Positivity ही Positivity थी Negativity का नामो निशान नहीं ।

45 दिन के जीवन मे हमे कितना कुछ दे जाती है एक मधुमक्खी । सही मे अपने आसपास nature मे present कीड़े -मकोड़ों की आदतों को ध्यान से देखने से भी , हम अपनी जिंदगी को Positivity से भर सकते हैं । कम से कम कुछ फूलों वाले पौधे तो लगा ही सकते हैं । बस शांत दिमाग के साथ observe करने की जरूरत है ।

                 So always be positive friends 

(समस्तचित्रinternetकेसौजन्यसे)

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s