Story of Life : Nature loves Positivity 

हम सभी ने अपने बचपन मे कुछ मीठे -मीठे गाने सुने हुये हैं ,चाहे वो लोरी के रूप मे हो या school मे सीखी हुयी rhymes के रूप मे । बचपन मे सुनी और सीखी हुयी चीजें हमेशा मन मस्तिष्क मे present रहती हैं।

जिसने “चंदा मामा दूर के” को ध्यान से सुना उसे आकाश को निहारने की आदत पड़ गयी और आकाशगंगा से प्यार हो गया ।

पेड़ों पर झूला डालकर जिसने, झूले की ऊँची – ऊँची पेंग ली उसे पेड़ों से प्यार हो गया ।
जिसने मिट्टी मे पौधों को रोपा और उसे बड़ा होते हुये देखा उसे मिट्टी से प्यार हो गया , जिसने पशु पक्षीयों को अपने आस-पास देखा उन्हें उनसे लगाव हो गया कुल मिलाकर ‘Positive effect of nature’ आ ही गया और प्रकृति से प्यार हो गया ।

लेकिन सच मे जैसे -जैसे बड़े होते है जिंदगी के मायने बदल जाते हैं । आजकल समाज मे यहाँ वहाँ हर जगह लोग असंतुष्ट है ।सिर्फ पैसे के पीछे भागती हुयी जिंदगी बिखराव लाती है। अपनी चादर से बाहर पाँव फैलाने की चाह मे सामाजिक मूल्यों के कोई मायने नही रह गये।

एक दूसरे की बुराई करना, दो की presence मे तीसरे की कमियाँ निकालना यही सबसे बड़ा काम रह गया है काफी दुखी करती हैं इस तरह की बातें..और दूसरी तरफ प्रकृति को देखिये …..

कितना आश्चर्य होता है न प्रकृति को देखकर , कितनी अबूझ पहेली जैसी होती है न प्रकृति
हम जितना देखते और सोचते हैं वो प्रकृति का अंशमात्र ही होता है । कितनी सारी चीजें प्रकृति अपने गर्भ मे छिपाये बैठी हुयी है हमे पता भी नहीं होता ।

अभी तो कहीं झरना देखा, नदी देखी,पहाड़ और रेगिस्तान भी देखा कितनी विविधता दिखती है न प्रकृति मे ये सब सोचते -सोचते मन प्रकृति मे ही खो जाता है और एक बार फिर से कविता लिखने को मजबूर कर देता है …..

                         प्रकृति तुम , अगम भी हो ..
                         प्रकृति तुम , सुगम भी हो ..

                         प्रकृति तुम , विचित्र भी हो ..
                         प्रकृति तुम , जुझारू भी हो ..

                         प्रकृति तुम , निष्क्षल भी हो..
                         प्रकृति तुम , सरल भी हो..

                         प्रकृति तुम , विरल भी  हो..
                         प्रकृति तुम,  वृहत भी  हो..

                         प्रकृति तुम , अनंत भी हो..
                         प्रकृति तुम , अकूत भी हो..

                         प्रकृति तुम , अनुराग भी हो..
                         प्रकृति तुम , उदार भी हो..

                         प्रकृति तुम , राग भी हो….
                         प्रकृति तुम , सौभाग्य भी हो..

                     सभी  को बताओ सरलता मे  जीना..
                     सभी को सिखाओ विपत्तियों से जूझना..

                     क्यूँ दिखाते हैं लोग, जीवन मे लोभ ?
                     क्यूँ उठाते हैं लोग , काँटो का बोझ ?

                     तिनको से बने होते हैं क्या , लोगो के ठिकाने ?
                     होते नहीं क्या उनके , पक्के आशियाने ?

                    क्यूँ भरभराकर कर , गिर पड़ते हैं ठिकाने ?
                    तूफानों मे टिकते नहीं , क्यों लोगो के आशियाने ?

                    बाँधकर रिश्तों को रखना , क्यूँ नहीं सीखते लोग ।
                    हमेशा तर्क वितर्क मे ही , जूझते रहते हैं लोग ।

                    तुम्ही तो बताती हो , जीवन पथ पर चलना ।
                    तुम्ही तो सिखाती हो , तूफानो मे सँभलना ।

                   ये तो बताओ खोया कहाँ , वो  विश्वास ?
                   देखकर कभी किसी को भी , होता न था जब अविश्वास ।

                   तुम से छुपा है क्या , जीवन का सच ।
                   कितनो को मिला है ये , जीवन सरल ।

                   थोड़ा सा सिखा दो न , हमे भी छल ।
                  क्योंकी होता है जरूरी , ये भी हर पल ।

                  सरलता को हमेशा क्यों , छोड़ते हैं लोग ?
                  जीवन पथ को हमेशा क्यों , मोड़ते है लोग ?

                 कठिनाईयों से ही मिलती है , जीवन की सफलता ।
                 सफलता का नहीं है , कोई पैमाना दूजा ।

                  पाखंड भी होता है क्या , हमेशा जरूरी ?
                  धोखा देना भी होता है क्या , हमेशा जरूरी ?

                  रंग बदलते ,घूमते है क्यों लोग ?
                  देखकर उन्हे ,हमे होता है क्षोभ …

                        प्रकृति तुम शीतल भी  हो..
                        प्रकृति तुम कोमल भी हो..

Positivity और Negativity दोनो एक ही सिक्के के दो पहलू होते हैं । कोई भी negative thought दिमाग मे आते ही दिमाग तुरंत उसको implement करने के लिये कहने लगता है , और उस thought को मजबूती प्रदान करने के लिये चार और negative thought दिमाग मे आते है और आप Negativity से fulfill हो जाते हैं।

 लेकिन ऐसे समय मे अपने आप को कुछ समय दीजिये उस माहौल से बाहर निकलने की कोशिश करिये अपने attitude को तुरंत change करिये अपने आप मे ही अभूतपूर्व देखेंगे  और अपने आप को positivity से fulfill पायेंगे ।

फिर देखिये Positivity के साथ सफलता की सीढ़ीयाँ कैसे सरलता से चढ़ी जाती हैं ….

             So always be positive friends   

( समस्त चित्र internet के सौजन्य से )             

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s