Story of Life : Thank you ma’am, said the chameleon

Nature का मतलब सिर्फ दिखती हुई हरियाली और आकाशगंगा ही नहीं होता बल्कि इनके ऊपर निर्भर होने वाले अनेक जीव जन्तु भी होते हैं… सब एक दूसरे के ऊपर किसी न किसी तरह से निर्भर रहते हैं….

हर जीव जन्तु की अपनी भाषा अपनी समझ होती है कभी किसी प्राणी को आप बड़े ध्यान से देखिये और उनकी body language को पढ़ने की कोशिश करिये तो आपको
 ऐसा लगेगा कि अरे! ये तो सही मायने मे आपसे बातें करने की कोशिश कर रहा है …

आपने देखा है चींटो को जब घूमते रहते हैं… कभी अगर गलती से उनके ऊपर पैर पड़ गया तो अपने मुँह को खोलकर डाटते हुये से लगते हैं… उसी जगह पर गोल गोल घूमते रहते हैं… गुस्सा Control नहीं कर पाते …कभी-कभी तो पांव की उन्गलियों मे इतनी जोर से चिपट जाते हैं कि खून निकाल कर ही दम लेते हैं….मानो गुस्से मे कह रहे हो भगवान ने दो आँखे किस लिये दी है उपयोग मे नहीं ला सकते …

सामान्यतौर पर हम बड़े पेड़ों या झाड़ियों के नीचे ही अपनी गाड़ियों को खड़ा करते हैं.. जिससे सूर्य भगवान के ताप से हमारी गाड़ियाँ बची रहे…हमे मालूम भी नहीं होता कि इन पेड़ों पर कितने तरह के जीव जन्तुओं का बसेरा होता है ….आजकल की व्यस्तता वाली जीवन शैली मे सारा दिन भागते हुये ही निकल जाता है ….

दिमाग पर जब काम का बोझ थोड़ा कम होता है और मन थोड़ा हल्का होता है तब आप चीजों को ज्यादा observative तरीके से देख पाते हैं …

कुछ दिन पहले की ही तो बात है, मैने बड़े आराम से अपनी कार को society से बाहर निकाला…. तल्लीनता के साथ चला रही थी शाम का समय हो चला था मेरी बेटी मेरे बगल वाली सीट पर बैठी हुयी थी चलती फिरती हुई road पर अचानक से उसने बोला मम्मा ! wind screen पर छिपकली ….मैने ध्यान से देखा तो बाहर की तरफ से एक गिरगगिट wind screen पर बैठा हुआ था और बड़े आराम से मुफ्त की सवारी कर रहा था …

.

अपने ऊपर थोड़ा अफसोस भी हुआ कि हमारे बच्चों को छिपकली और गिरगगिट मे अंतर नहीं पता…window का glass ऊपर कर के मै driving करती रही …तभी अचानक से गिरगगिट की तरफ नजर गयी ऐसा लगा मुझसे बोल रहा हो , ‘Hello ma’am ! sorry मै आपको  disturb नहीं करना चाहता था ….’

‘आप आराम से drive करिये ,एक ही society मे रहते रहते मै बोर हो गया था सोचा long drive पर चलूं …Delhi वाला हूँ न किसी छोटे शहर को belong नहीं करता जल्दी बोर हो जाता हूँ …आपकी गाड़ी पर ही बैठ गया एक बार फिर से sorry….’, 

उसके चेहरे पर बड़ा confidence था …अचानक से मेरी car speed breaker पर पहुंची तो उसके चेहरे का सारा confidence रफूचक्कर हो गया घबरा सा गया……

बेचारे के चेहरे पर दया के भाव आ गये, ‘ Please please pleaseeee……Ma’am break लगाइये नहीं तो मै कहाँ जाऊँगा आपको मालूम भी नहीं पड़ेगा  …’ 

मुझे बड़ी जोर से गुस्सा आया एक तो मुफ्त की सवारी कर रहा है और दूसरा मुझे अक्ल सिखा रहा है…खैर कोई बात नहीं मैने आराम से break लगा कर speed breaker पार किया और drive करती रही वो आराम से wind screen पर बैठा रहा ….

बीच मे एक बार मुझे लगा कि जोर से break लगा कर इसे आगे चलने वाली innova के ऊपर पहुंचा दूँ… लेकिन फिर मैने अपना इरादा बदल दिया सोचा कुछ देर बाद अपने आप ही अपने रास्ते चला जायेगा….मुझे आश्चर्य इस बात पर हो रहा था कि 5-6km की दूरी 60 से 65 की speed पर भी ये फिसल नही रहा है ….और गुस्ताखी देखिये अपना सिर उठा -उठा कर अगल बगल आने जाने वाली गाड़ियों की सवारियों को भी बड़ी दिलचस्पी लेकर देख रहा था ….

ऐसा लग रहा था मानो eye tonic ले रहा हो मुझे हँसी आ रही थी…मैने मन ही मन मे बोला कोई बात नहीं बेटा आराम से चकर मकर देखो…. हो तो तुम गिरगगिट ही रंग बदलना तो तुम्हारा काम है ..खैर हम अपने गंतव्य पर पहुँच गये मेरा ध्यान गाड़ी से सामान निकालने पर चला गया वापस wind screen पर ध्यान नही गया ….

करीब एक घंटे बाद जब मै वापस आयी तब भी महाशय मेरी car के wind screen पर ही बैठे हुये थे …ऐसा लग रहा था कि जैसे मुझसे कुछ कहना चाह रहा है मैने उससे सख्ती से पूछा बोलो क्या बात है नहीं तो चुपचाप से मेरी बात सुनो इससे ज्यादा wind screen की सवारी मै तुम्हें नही करा सकती …

क्योंकि अब अँधेरा हो रहा है और तुम्हारे कारण मेरा ध्यान divert होगा मै driving पर concentrate नही कर पाऊंगी… अब बहुत हो चुकी तुम्हारी long drive तुम्हारा कोई भरोसा नहीं कहो कूद कर मेरी driving seat ही share करने लगो… अब चुपचाप यहाँ से निकल लो मेरी आवाज मे थोड़ी सख्ती थी ….

मैने उसके चेहरे की तरफ देखा उसने अपने सिर को ऊपर नीचे किया फिर से अपना रंग बदला और बोलना शुरू किया नहीं ma’am आप मुझे गलत समझ रही हैं …पटर- पटर…  चटर- चटर बोले पड़ा था….

‘कोई बात नहीं है मै तो जा ही रहा था लेकिन  इतना भी एहसान फरामोश नहीं कि आपको thanx बोले बिना चला जाऊं…Thank you ma’am मैने कई बड़ी -बड़ी गाड़ियों के ऊपर भी long drive का मजा लिया है आपको ये बात नहीं मालूम.. ma’am मै South Delhi …..North Delhi…. East Delhi… West Delhi…ब घूम चुका हूँ..ये बड़ी -बड़ी गाड़ियों वाले बड़े निर्दयी होते हैं speed breaker का भी ध्यान नही रखते और speed भी बहुत ज्यादा रखते हैं turning point पर कई बार तो मुझे ऐसा लगता है कि मै हवा मे उड़ जाऊँगा लेकिन भगवान जी बचा लेते हैं…’

‘Ma’am आपने speed breaker का भी ध्यान रख कर मेरे लिए safe driving  की… और गाड़ियों से तो मै कई बार गिरते गिरते बचा लेकिन आप की car मे गनीमत रही कि मै wind screen से नीचे नही सरका…. बीच-बीच में अपनी जीभ को बाहर निकाल कर मच्छरों को खाता भी जा रहा था …’
मैने मन ही मन सोचा कितने positive thought है इसके ….तब तक उसकी आवाज  आयी,

‘Ma’am ,अब मै चलता हूँ नये परिवेश मे नये माहौल मे नये दोस्तों के बीच में bye ऐसा कहते हुये कूद कर झाड़ियों मे  खो हो गया …’

मै भी अपने घर के रास्ते पर चल दी और सोचने लगी प्रकृति जीवन के सफर मे कितना कुछ सिखाती है ……लेकिन नये लोगों के ऊपर विश्वास कैसे होता होगा ,मुश्किल तो होता होगा धोखा खाने की संभावना ज्यादा होती  होगी ….सोचा उसे खोज कर पूछूँ उससे तुम कैसे लोंगो के ऊपर भरोसा करते हो…

पीछे मुड़कर देखा तो झाड़ियों मे से झाँक रहा था ,

‘Ma’am ! मै समझ गया आपके मन की बात असल में मै मनुष्य नहीं हूँ न इसलिये ज्यादा छल कपट नहीं आता हँसते हुये बोला मुझे लोग रंग बदलने वाला बोलते हैं आपने भी बोला था अपने आसपास देखिये बहुत सारे गिरगगिट मनुष्य रूप मे दिखाई देंगे मुझे अपने आप पर थोड़ी सी शर्म भी आयी सही तो कह रहा है ये…एक बार फिर से उसकी आवाज आयी ma’am… ma’am.. मेरी बातों से परेशान मत होइये खुश रहिये positive रहिये …’

‘इतनी ज्यादा बातें मैने किसी से भी  long drive मे नहीं की अब मै जा रहा हूँ आपसे फिर मिलूँगा तब तक कुछ अच्छा करिये …मुझे भूख भी लगी है… और एक बार फिर से गायब हो गया …..’

सही में नयी चीज सीखना नया परिवेश नये thought हर किसी के जीवन मे Positivity लाते हैं….जरूरत है Negativity को छोड़कर आगे बढ़ने की …

                   

                   So always be positive friends 

(समस्त चित्र internet के सौजन्य से ) 



Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s