Positivity Blog- Our Thoughts As Birds

1474085285301-805442901-1

मन की उड़ान कितनी तीव्र होती है,कभी यहाँ कभी वहाँ …कभी उड़ जाता है हवाओं के साथ-साथ..कभी जाकर बैठ जाता है… मंदिर मे आस्था के फूल भगवान  के चरणो मे अर्पित करने..कभी चला जाता है पेड़ों की शाखों पर कभी परिंदो के पास ….

कभी बैठना होता है बंद कमरे मे खुद से मिलने के लिये….. कभी उड़ जाना होता है आकाश मे बादलों को पकड़ने के लिये ….बादलों को पकड़ने के चक्कर में पूरा भीग भी जाता है मन…..वापस घर के अंदर लातीहूँ पकड़ कर अदरक वाली चाय.पिलाती हूँ मन को….फिर सोचती हूँ कभी-कभी, विज्ञान कितनी भी प्रगति कर ले लेकिन मन से तेज गति से चलने वाली चीज का अविष्कार क्या कभी कर पायेगा….

1474085084114-57852330

लेकिन मन ही ऐसी चीज है, जो आपको अपनी जिंदगी मे Positive रहना या Negative रहना सिखाता है …वैसे भी कहा गया है कि ‘मन के जीते जीत है,मन के हारे हार’..

कभी मन नटखट हो जाता है…..कभी कहानी सुनाता है……कभी दार्शनिकता तो कभी काव्य रूप मे लिखवाता है …..

हवाओं के साथ धूल का बवंडर सा उठा है दोस्तों….

14740844795681587349938-1

क्या वो धूल है? या किसी की हसरतों का गुबार
है दोस्तों …

हमने जा कर के पूछा कि आपको क्या मलाल
है दोस्तों ….

सबने पूछा क्या आपको हमारा ख्याल है दोस्तों…

कर के मानवता को दुनिया भर में हलाल दोस्तों…

आप पूछते हो बचा है क्या रिश्तों का निशान दोस्तों…

बिखेर कर रिश्तों की धूल को जमाने भर में…..

हम से पूछा आप का क्या सवाल है  दोस्तों ….

अपनी ही नजरों मे देखा है, हमने ढ़ेर सारे सवाल दोस्तों ….

दूसरों की नजरों से देखना अपने आप को इस बात, पर नहीं
रहा कभी ऐतबार दोस्तों…..

गिरना, उठना, सँभलना फिर दौड़ना यही है अपना अंदाज दोस्तों…

गुरूर मत समझना इस बात को, ये है हमारा खुद पर ऐतबार दोस्तों…

कभी-कभी होता है ,हमे अपनी दोस्ती पर गुमान के साथ-साथ मलाल भी दोस्तों…

लेकिन फिर भी रहता है हमेशा, सकारात्मक दिल और दिमाग दोस्तों….

किसी के नकारात्मक इरादो को हमने, कभी न सुनाया अपना हाल दोस्तों…

गिरा न सकेंगे किसी के नाकाम इरादे,हमे हमारी ही नज़रों मे ..
इस बात पर है हमे पूरा ऐतबार दोस्तों…

गिरकर भी न गिरना खुद की ही नज़रों मे ..
यही है हमारा अंदाज दोस्तों……

1474085667228-744365069

            खुद की अंतरात्मा से बड़ी अदालत ईश्वर ने बनायी ही नहीं है ….
जिसने अपनी अंतरात्मा को मार दिया वो व्यक्ति जीवित होते
हुये भी मृत है ….

इसलिये हमेशा अपनी आत्मा की आवाज सुनिये और Positive रहिये ।

Be Positive

How did you find this blog on positivity, my friends?

Please write to me and let me know.

Thanks

 

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s